इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनने से नहीं, चित्रकूट में त्रिवेणी को सदानीरा बनाने से आएगा राम राज्य: साध्वी कात्यायिनी गिरि

96

कामदगिरि परिक्रमा मार्ग पर ब्रहमकुंड के शनि मंदिर में चल रही रामकथा का चौथा दिन

संदीप रिछारिया

चित्रकूट। मुम्बई से आईं राम कथा की मर्मग्य साधिका साध्वी कात्यायिनी गिरि ने श्री कामदगिरि परिक्रमा मार्ग के ब्रहमकुंड पर स्थित प्राचीन शनि मंदिर में चल रही कथा के चैथे दिन नदियों को बचाने के लिए सरकार व समाज को झकझोरने का काम किया। उन्होंने सीधे तौर पर कहा कि यहां पर इंटरनेशनल एयरपोर्ट बन जाए, इससे राम राज्य नहीं आएगा। यहां का राम राज्य तो तब चरितार्थ होगा जब मंदाकिनी, पयस्वनी व सरयू का संगम स्थल शानदार होगा। अंतिम सांसे ले रही पयस्वनी व सरयू को पुनर्जीवन देने का काम समाज व सरकार एक साथ करेंगे।

उन्होंने कहा कि भगवान शंकर मृत्यु के साथ मोक्ष के देवता है। यही एक मात्र ऐसे देवता हैं जो अपने सिर पर गंगा की धारा के साथ चंद्रमा को धारण करते हैं। शिव ही राम कथा को मंदाकिनी कहते हैं। यह मंदाकिनी चित्रकूट के कण-कण को जीवन देने का काम कर रही है। हमारा दायित्व है कि भगवान शंकर जी राम कथा यानि चित्रकूट की मंदाकिनी, पयस्वनी व सरयू को सदानीरा बनाए रखने के लिए सभी प्रयास करें।

उन्होंने कहा कि ऐसा कोई ऐप नही बना जो पानी दे सके। ऐप पर आर्डर देने पर वह बाजार से बोतल बंद पानी लाकर आपको दे देगा। वह पानी का निर्माण नही कर सकता। पानी का निर्माण करने वाला ऐप केवल प्रकृति के पास है, जो नदियों व अन्य जलश्रोतों के रूप में सबको उपलब्ध कराती हैं। मानव का शरीर पंच तत्वों द्वारा बना है। पंचतत्वों में सबसे पहले जल का नाम आता है। भगवान स्वयं सभी के संरक्षण के लिए चित्रकूट में प्रकट हुए। उन्होंने मंदाकिनी, प्यस्वी, सरयू व अन्य जल धाराओं का संरक्षण करने का काम किया।

श्री राम जन्म की लीला का वर्णन करते हुए कहा कि यह तो आनंद की प्राप्ति का साधन है। जीवन का प्रमुख लक्ष्य आनंद की प्राप्ति है और यह केवल श्रीराम के स्मरण में मिलता है। श्री राम तक पहुंचने का मार्ग बाबा तुलसीदास ने शिव चरित्र से बताया। शिव पुरूष व माता पार्वती प्रकृति है। शिव यानि शंकर के पास हमेशा प्रकृति यानि स्त्री को संरक्षण करने का काम है। प्रकृति और मनुष्य जब साथ आते हैं तब आनंद आ जाता है।

इस आयोजन की व्यवस्था देखने का काम अखिलेश अवस्थी, सत्ता बाबा, राम रूप पटेल, गंगा सागर महराज, स्वामी धर्मदास महराज कर रहे हैं। कथा सुनने के लिए हजारों की भीड़ जुट रही है।

Advertisement