इंद्रदेव का कोरोना पर ‘वार’ होरियारे मायूस

137

संदीप रिछारिया ( वरिष्ठ संपादक)

चित्रकूट। अजब तेरी माया, अजब तेरे खेल छछूदर के सिर पर चमेली का तेल, कुछ ऐसा हाल चीन से निकले और इटली में सबसे ज्यादा कहर बरपाने वाले कोरोना के यहां पर हो रहे हैं। वैश्विक स्तर पर डर के माहौल के बीच प्रधानमंत्री से लेकर अभिनेता अभिभावदन में हाथ मिलाने की जगह नमस्ते करने की सलाह दे रहे हैं। होली पर दूर से रंग फेंकने की सलाह भी खूब जारी की गई। खांसने व छीकने तक के लिए एडवाइजरी जरी कर मुंह में मास्क लगाने की अपील लगातार जारी की जा रही है। मीडिया भी लगातार कोरोना का मरीज यहां मिला, वहां मिला। होलिका दहन में कपूर व लौंग का प्रयोग के साथ ही तमाम तरह के निवेदन सोशल मीडिया पर लगातार छाए हुए हैं। लेकिन हम जिस देश के वासी हैं। वहां पर तो 33 कोटि के देवता कुछ ऐसा कर देते हैं कि अपील एडवाइजरी कुछ नहीं मायूने नहीं रखती यहां पर सीधे तौर पर एक फरमान आता है तो सब मामला निपट जाता है।

होली की मस्ती करने को आतुर होरियारों को यह होली ताजिंदगी याद रखने की व्यवस्था इंद्र देव ने कर दी। सुबह सात बजे से ही चित्रकूट में रूक रूक कर बारिश हो रही है। जिससे वातावरण में हल्की गर्मी की जगह ठंड बढ गई। स्वेटर व जैकेट के साथ लोग होली की आग को अला समझ कर ताप रहे हैं। बरसात की बूंदे उसको धीमा करने का प्रयास कर रही है। जिससे न केवल होली की आग बुझती नजर आ रही है। लोग होली खेलने की जगह उस आग से अपने आपको तापकर गर्म करने का प्रयास कर रहे हैं। इस तरह से होली का मजा तो किरकिरा हो रहा है, साथ ही लाखों रूपये लगातार होली खेलने के लिए लाए गए रंग, गुलाल , पिचकारी की दुकानें भी ठंडी पड़ी दिखाई दे रही हैं। बच्चों को भी घरों में रहने के लिए मजबूर किया जा रहा है। मां बाप खुश हैं कि कम से कम अब बच्चों के मुंह में लगा रंग व गुलाल उन्हें साफ करने के लिए श्रम नही करना होगा। एक दूसरे से छीना झपटी के बीच अभिभावकों के बीच कोरोना वायरस का डर भी नही सता रहा है।

Advertisement