एक परीक्षा ऐसी भी जहां कापी, पेन, कागज का नही होता इस्तेमाल

66

चित्रकूट के जयेंन्द्र सरस्वती वेद विद्यालय में चल रहीं हैं परीक्षाएं

संदीप रिछारिया( सीनियर एडीटर)

उं की तरह की रां भी अतभुद शब्द है। इसे धर्मनगरी की फिजाओं में आज भी वेदों की ऋचाएं गूंजती हैं। विश्वास ने हो तो चित्रकूट के श्री जयेंद्र सरस्वती वेद विद्यालय में आकर देख लें। यहां पर आज भी ऋग्वेद, शामवेद, अर्थववेद और यजुर्वेद की विभिन्न शाखाओं की परीक्षाएं मौखिक चल रही है।

यह परीक्षा आचार्य हरे कृष्ण पंडा , आचार्य संतोष पाठक, आचार्य वीरेंद्र नाथ बसयाल,, आचार्य बैकुंठ गौतम, आचार्य पुष्कर राज पारीक, आचार्य गंगा प्रसाद, आचार्य डॉक्टर गोपाल दास तिवारी, आचार्य विजय पांडे, आचार्य डॉक्टर प्रकाश प्रसन्न त्रिपाठी, आचार्य रामेंद्र त्रिपाठी, आचार्य राधे रमण त्रिपाठी, आचार्य श्री चंद्रप्रकाश पँरोहा(प्रेक्षक), आचार्य द्वारिका नाथ मिश्र, आचार्य विकास कुमार पांडेय, आचार्य नारायण मिश्र, आचार्य हरिशंकर पालीवाल, आचार्य बलबीर, आचार्य उमेश पाठकज़ आचार्य कृष्ण प्रसाद धिमिरे, आचार्य डॉक्टर ज्योति स्वरूप तिवारी, आचार्य डॉक्टर ओम प्रकाश द्विवेदी, आचार्य डॉक्टर सपन पंडा आचार्य मलय पंडा ने ली।

Advertisement