एयरपोर्ट पर IGRUA और GMR की ट्रेनिंग के बाद मिलेगी नौकरी

82

एयरपोर्ट पर नौकरी करने की चाहत रखने वालो के लिए इंदिरा गांधी उड़ान अकादमी अमेठी की ओर से खुशखबरी सामने आई हैअकादमी और जीएमआर ग्रुप फायर फाइटर की ट्रेनिंग करवा कर एयरपोर्ट पर नौकरी कर ने के रास्ते खोलने जा रहा है। जिसका फायदा उत्तर प्रदेश के अमेठी रायबरेली के युवाओं को सबसे ज्यादा मिलेगा।

राजीव गांधी राष्ट्रीय विमानन विश्व विद्यालय और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी के साथ एयर पोर्ट के निर्माण व रख रखाव में अग्रणी देश की संस्था जी एम आर के संयुक्त तत्वावधान में एक कोर्स की शुरूआत की जा रही है। इसके तहत स्थानीय बच्चो को योग्यता के आधार पर प्रशिक्षित कर के फायर फाइटर की नौकरी विभिन्न एयरपोर्ट पर दी जाएगी। फायर फाइटर मतलब अग्नि शमन ऑपरेटर की यह ट्रेनिंग 6 माह की होगी।

ट्रेनिंग के लिए अभ्यर्थी को पहले विश्वविद्यालय में 16 मार्च 2020 को gmraa.contact@gmrgroup.in पर रजिस्टर करना पड़ेगा। इसके बाद फायर फायटर यानी अग्नि शमन ऑपरेटर की ट्रेनिग आरम्भ होगी। यह कोर्स 6 महीने का होगा। इसके लिए अभ्यर्थी को क्लास 12 तक किसी भी संकाय से पढ़ा होना जरूरी है। आवास परिसर, भोजन खेल कूद व यातायात की व्यवस्था विश्व विद्यालय की तरफ से की जाएगी। पाठ्यक्रम पूरा होने पर हवाई अड्डों में डिमांड के आधार पर नौकरी मिलने की संभावनाएं ज्यादा बढ़ेंगी। नौकरी की समस्या से जूझ रहे शिक्षित वर्ग के लोगो के लिए यह एक स्वर्णिम अवसर है। प्रशिक्षित युवकों को आरम्भ में रु 18 से 20 हजार प्रति माह तक वेतन मिल सकेगा। ट्रेनिग के दौरान प्रशिक्षुओ के आवास, भोजन और यातायात तथा पूरे पाठ्यक्रम का कुल शुल्क मात्र दो लाख ही होगा। अमेठी रायबरेली और पड़ोसी जनपदों से जुड़े युवा छात्रों के लिए यह एक सुनहरा अवसर है। विश्वविद्यालय के कुलपति श्री अम्बर दुबे जो केंद्र सरकार में नागर विमानन मंत्रालय के संयुक्त सचिव भी हैं ने इस तरह के और भी पाठ्यक्रम विश्वविद्यालय में शीघ्र चलाने की बात कही है। उन्होंने कहा की देश मे आगे आने वाले कुछ वर्षों में एविएशन उद्योग में भारी मांग बढ़ने वाली है, जिसकी भरपाई करने के लिए यह विश्वविद्यालय गुणवत्ता, कार्यशीलता व अनुशासन से लबरेज मानव संसाधन का उत्पादन करने हेतु कटिबद्ध है।

Advertisement