कोरोना के डर से चित्रकूट में ब्लैकआउट

80

उत्तर प्रदेश में भी सभी स्कूल बंद पर मन्दाकिनी गंगा की आरती पर रोक नही

संदीप रिछारिया ( वरिष्ठ संपादक)

धर्म नगरी चित्रकूट में मध्य प्रदेश प्रशासन ने कोरोना के डर से कामतानाथ स्वामी के मंदिर के साथ ही कामदगिरि परिक्रमा पर भी रोक लगा दी है।

जिलाधिकारी सतना एक आदेश जारी कर कहा कि कोरोना विश्वव्यापी समस्या है, हमें अपने लोगों को बचाने के लिए सचेत रहने की जरूरत है। इसलिए कोरोना से बचने के लिए लोगों को आगाह किया जा रहा है। एहतियातन कामतानाथ जी के मंदिर के कपाट बंद रखने के साथ ही परिक्रमा न करने की सलाह दी जा रही है। लोग अपने घरों से ही भगवान की पूजा अर्चना कर सकते हैं । कम से कम लोग बाहर निकले । लोगों से मिलते वक्त नमस्कार करें साथ ही किसी भी चीज पर हाथ लगाने के बाद उसे साबुन से जरूर धोएं। वैसे तो 2 दिन पूर्व ही तीर्थ नगरी के तमाम मंदिरो के पट आम दर्शनार्थियों के लिए बंद कर दिए गए थे । आज एसडीएम के साथ ही अन्य अधिकारी कामदगिरि प्रमुख द्वार पहुंचे और सभी संतो के साथ मिलकर बातचीत कर यह बताया कि हम सबकी जिम्मेदारी कोरोना से निपटने के लिए है, इसलिए सभी लोगों को साथ मिलकर काम करना होगा दर्शनार्थियों की सुरक्षा के लिए मंदिर के कपाट अभी बंद किए जा रहे हैं । जहां एक और मध्य प्रदेश प्रशासन कोरोना को लेकर संजीदा है, वही उत्तर प्रदेश में भी सभी विद्यालयों में अवकाश कर दिया गया है। यहां तक की परीक्षाएं भी बीच में रोक दी गई है।

जिला प्रशासन के साथ-साथ अन्य अधिकारी भी लोगों को कोरोना से बचने के उपाय बता रहे हैं । लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि अभी तक शाम के समय मंदाकिनी गंगा की होने वाली आरती पर कोई रोक नहीं लगाई गई है ,जबकि यहां पर प्रतिदिन 4 से 6 सैकड़ा लोग एकत्र हो रहे हैं और एक दूसरे से सटकर खड़े होते है। नीचे घाट पर भी काफी लोग बैठते है।

Advertisement