कोरोना से घबराएं नहीं, सावधान रहने की जरूरत: सीएमओ

9

– कोरोना संक्रमित शहरों से लौटने वालों की हो रही स्क्रीनिंग व निगरानी

बांदा। देश में संपूर्ण लॉक डाउन की घोषणा होने के बाद से ही शहरों में पलायन किए हुए मजदूर बड़ी तादात में अपने घरों की ओर लौट रहे हैं। जनपद में अब तक लगभग 3000 मजदूर कोरोना संक्रमित शहरों दिल्ली, मुंबई सहित कई शहरों से वापस आए हैं। इन सभी पर स्वास्थ्य विभाग पैनी नजर बनाए हुए है। हांलाकि जनपद में अब तक एक भी कोरोना पीड़ित मरीज नहीं है। पर कोरोना का कोई इलाज न होने से प्राासन सावधानी बरतने के प्रति लोगों को जागरूक कर रहा है।

जिला सर्विलांस अधिकारी डा.एनके सिन्हा ने बताया कि लॉक डाउन लागू होने के बाद जनपद में अब तक लगभग 3000 लोग कोरोना संक्रमित शहरों से लौटे हैं। जिला अस्पताल में इन सभी की स्क्रीनिंग की गई है। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी व स्वास्थ्य कार्यकर्ता प्रतिदिन फोन पर संपर्क कर कोरोना संक्रमित शहरों से लौटे लोगों के स्वास्थ्य की जानकारी ले रहे हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संतोष कुमार का कहना है कि सभी को जागरुक करने के लिए जनपद स्तर पर हेल्प डेस्क और हेल्प लाइन की व्यवस्था की गई है। इसके जरिए लोगों के सवालों का जवाब दिया जा रहा है। बताया कि दूसरे राज्यों और शहरों से लौटने वालों को 14 दिन तक अपने परिवार के साथ घर पर ही रहने की सलाह दी जा रही है। बुखार और खांसी होने पर केवल पैरासीटामाल लेने और घर पर आराम करने को कहा गया है। तेज सांस फूलने या तेज बुखार होने पर स्वास्थ्य विभाग के टोल फ्री नंबर 1800-180-5145 अथवा मुख्य चिकित्सा अधिकारीध्जिला सर्विलांस अधिकारी से संपर्क करने के निर्देश दिए गए हैं।

सुधीर त्रिवेदी (वरिष्ठ पत्रकार)

Advertisement