गांजा बरामदगी के हेर-फेर में फसा कोतवाल, लाइन हाजिर

68
कौशाम्बी | पश्चिम शरीरा थाने में तैनात निरीक्षक पर तस्करो से बरामद गांजा में हेर-फेर करने का आरोप लगा है | जाँच के बाद एसपी ने आरोपों के घेरे में आये कोतवाल पर कार्यवाही करते हुए थाने का चार्ज छीन लाइन हाजिर कर दिया है | एसपी की कार्यवाही से महकमे में हड़कंप मचा हुआ है | 
गौरतलब है कि पश्चिम शरीरा थाने के प्रभारी निरीक्षक उदयवीर सिंह ने 12 फ़रवरी को नहर पुलिया के पास से सांसद प्रतिनिधि की लक्जरी गाडी में 35 किलो गांजा बरामद करने का दावा कर 3 आरोपित सुनील सिंह, धर्मेंद्र सिंह व् ललावन सिंह उर्फ़ धीरज यादव को एनडीपीएस एक्ट में जेल भेजने की कार्यवाही की थी | पुलिस के अभिलेखों में इन्स्पेक्टर ने गांजा की बरामदगी एक सांसद प्रतिनिधि लिखी स्कार्पियो गाडी में दिखाई गई | महकमे के अफसरों ने बरामदगी व् कार्यवाही पर प्रेस कांफ्रेस कर इन्स्पेक्टर उदयवीर सिंह की खूब प्रशंसा की | 
 
विभागीय सूत्रों के अनुसार बतौर प्रभारी निरीक्षक पश्चिम शरीरा उदयवीर सिंह द्वारा गुड वर्क की आड़ में किये गए, बैड वर्क का खुलासा सोशल मीडिया में वाइरल हुए तस्वीरो के जरिये हुआ | जिसमे सरसो के खेत में मिली गांजा की पुलिस बरामदगी की तस्वीर सोशल मीडिया में वाइरल होने के बाद हुआ | जिसमे स्थानीय विधायक के करीबी बताये जाने वाले शख्स ने एसपी को पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच के लिए शिकायत की | उन्होंने इन्स्पेक्टर उदयवीर सिंह पर आरोप लगाया कि उन्होंने कार्यवाही के दौरान आल्टो कार से बरामद एक कुंतल गांजा को दूसरी गाडी जिसमें सांसद प्रतिनिधि लिखा हुआ था, उसमें दिखाया | इतना ही नहीं लिखापढ़ी की फर्द में उन्होंने महज 34 किलो 800 ग्राम गांजा व् का ही जिक्र किया | शेष बचे गांजा को तस्करो के हाथ मोटी रकम लेकर बेच दिया और अपनी जेब लाखो रुपये से भर ली | 
 
महकमे के प्रभारी इन्स्पेक्टर के ऊपर लगे आरोप को एसपी ने बेहद गंभीरता से लेते हुए मामले की जाँच सर्किल अफसर मंझनपुर सच्चिदानंद पाठक को सौपी | एक पखवाड़े तक चली जाँच में बाद सीओ ने अपनी जाँच रिपोर्ट सोमवार को एसपी को दी | जाँच रिपोर्ट के आधार पर एसपी ने कार्यवाही करते हुए प्रभारी इन्स्पेक्टर पश्चिम शरीरा को चार्ज से हटाते हुए पुलिस लाइन भेज दिया है | एसपी अभिनन्दन ने बताया कि प्रभारी निरीक्षक उदयवीर सिंह पर कई जांचे चल रही है | गांजा बरामदगी के मामले में लगे आरोप गंभीर है | फिलहाल लाइन हाजिर की कार्यवाही कर मामलों की विस्तृत जाँच के आदेश दिए गए है | 
Advertisement