चित्रकूट की धरती पर मौजूद हैं जलश्रोतों के लुटेरे, संतों की हरकत देख व्यापारियों ने भी डाला डाका

256
  • श्री कामदगिरि की परिक्रमा का अतिक्रमण साफ करने का दावा करने वाले प्रशासन की बिरजाकुंड के पास प्राचीन बीहर पर कब्जा करने वाले को क्लीन चिट

  • जगद्गुरू रामभद्राचार्य दिव्यांग विश्वविद्यालय के बाहर मौजूद है बेशकीमती बीहर

संदीप रिछारिया ( सीनियर एडीटर)

चित्रकूट। समय बदलने के साथ ही हम आदिम युग से निकलकर सभ्य युग तक आ गए। प्रकृति को पूजने वाले हम लोग पत्थर के भगवानों में सिमट आए हैं। भले ही प्राकृतिक भगवान हमारी जरूरतों को पूरा करने का काम करें, पर हमे उन्हें अपवित्र करने और उनको जड़मूल से उखाड़ने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते। राममंदिर निर्माण के लिए फैसला आने के बाद खुशी का इजहार एक महीने की आधा दर्जन कथावाचकों के साथ रामकथा के द्वारा श्रीकामदगिरि परिक्रमा मार्ग के बिरजाकुंड पर किया जाता है, वही राम-राम का जाप करने के साथ ही अनवरत चलने वाली रामायण का पाठ किया जाता है, और वहीं पर राजाओं की बनाई बेशकीमती बीहर ( सप्तदल वाले विशाल कुआं) पर खुले आम कब्जा भी कर लिया जाता है। हैरत की बात यह है कि उनका कद प्रशासन भी इतना उपर हो चुका है कि जिलाधिकारी स्वयं उस स्थान को देखते हैं कि कैसे उनके पर्यटन विभाग द्वारा बनवाए गए विशालकाय दो शेडों व बावली पर एक धर्माधिकारी ने कब्जा कर रखा है और वह कुछ नही बोलते हैं। आम लोग जब सवाल खड़े करते हैं तो योगी की सरकार और उन पर योगी की कृपा का हौवा बताकर उन्हें शांत कर दिया जाता है।

वैसे बिरजाकुंड स्थित बीहर की बात करें तो यहां पर राजस्व विभाग व धर्माधिकारियों की जुगलबंदी साफ दिखाई देती है। लगभग 35 साल पहले यहां पर बीहर के साथ आंवले के पेड़ लगे हुआ करते थे। इच्छा नवमी या आंवला नवमी को श्रद्वालु आंवले के नीचे भोजन कर पुण्य अर्पित किया करते थे। वहीं एक छोटे से विशाल बरगद के नीचे एक धर्माधिकारी की नजर पड़ी। अपने चार चेलों को रामधुन के साथ प्रतिस्थापित कर दिया। रामधुन का स्वरूप बढा तो कमरे बनने लगे। सरकारी जमीन का स्वरूप बदलकर सरकारी अभिलेखों में उसे महंत व अखाड़े के नाम पर दर्ज करने में प्रशासन ने अपनी भूमिका का निर्वहन किया। धीरे-धीरे बेशकीमती बीहर पर धर्माचार्य का कब्जा हो गया। अब यहां पर एक नही दो धर्माचार्य अपना- अपना दावा कर रहे हैं। हैरत की बात यह है कि हाल में एक धर्माचार्य को जलशक्ति मंत्रालय ने दिल्ली में बुलाकर मंदाकिनी को बचाने के लिए पोस्टर, बैनर व भाषण देने के लिए पुरस्कार भी दिया है। वैसे यह आश्रम राजनेताओं व अधिकारियों के साथ बड़े लोगों को नारियल का गोला देकर व शाल उड़ाकर अपने आपको पीठम का दर्जा दे चुका है।दूसरा कब्जे वाला बीहर सीतापुर – बेडीपुलिया मार्ग पर जगद्गुरू रामभद्राचार्य दिव्यांग विश्वविद्यालय के समीप मेन रोड पर है। मोदी के स्वच्छता दूत जगद्गुरू ने कई बार मंदाकिनी के लिए आवाज उठाई, पर आज तक उनकी नजर इस बीहर पर नहीं पड़ी। सबसे हैरत की बात तो यही है खुद जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह भी इस बीहर पर कब्जे को कई बार आंखों से देख चुके हैं लेकिन उन्होंने भी अपनी प्रतिक्रिया कभी इस मामले में नही दी।

तो क्या कर सकता है शासन

मोदी जी अपना वादा निभाया, जल शक्ति मंत्रालय बनाया, लेकिन सरकार के साथ ही समाज के जिम्मेदारी भी जलश्रोतों को संरक्षित रखने की है। अगर हमें अपना जीवन चाहिए तो जलश्रोतों नदी, तालाब, बीहर, कुंओं, चोहड़ों को संरक्षित व सुरक्षित करने के लिए बड़े प्रावधान बनाने होंगे। इसके लिए पुलिस की एक अलग विंग स्थापित करनी होगी। जलश्रोतों पर अतिक्रमण या गंदा करने वालों के अंदर कानून का डर पैदा करना होगा। इसकी मानीटरिंग के लिए कई स्तर पर जांच करनी चाहिए।सीएम योगीजी के आदेश व श्रद्वालुओं की बढ़ती संख्या को लेकर प्रशासन ने अब श्रीकामदगिरि परिक्रमा पथ पर बसी खोही बस्ती की जमीन को खाली कराकर चैड़ीकरण कराने के लिए काफी हो हल्ले के बाद मामला शांत हो गया है। राजस्व व वन विभाग ने लगभग एक सैकड़ा लोगों को नोटिस देकर दस दिनों में जमीन खाली करने के आदेश दिए थे। जिलाधिकारी की बैठक के बाद कब्जेदार रात-रात भर सोए नहीं, वहीं तमाम अतिक्रमण किए हुए स्थानों पर संत समाज द्वारा अतिक्रमण किए जाने को लेकर स्थानीय लोगों में तीखी नाराजगी भी है। वैसे पर्वत की तरफ अस्थायी व स्थायी निर्माण कर रहने वाले लोगों के भी दो मत हैं। पट्टों की जमीन पर भूमिधरी होने के बाद तमाम लोग अदालतों के आदेश लेकर मुआवजा की मांग कर रहे हैं तो बहुत से लोग इस कार्यवाही को गलत बता रहे हैं।परिक्रमा मार्ग पर दुकान लगाकर गुजर बसर करने वाली अंशु, दादू, पप्पू जैसे तमाम दुकानदार कहते हैं कि हमारा अतिक्रमण तो सामने प्रशासन को दिखाई दे रहा है, पर संत समाज का अतिक्रमण नहीं दिखाई दे रहा है। बिरजा कुंड के पास निर्मोही अखाड़ा ने कब्जा कर पहले छोटी कुटिया बनाई और धीरे धीरे रामधुन बैठाकर मंदिर का निर्माण किया। चौहद्दी बनाकर पर्यटन विभाग के दो शेडों को अपने सीमा के अंदर कर पूरी तरह से कब्जा कर लिया और राजाओं की बनाई पुरानी बेशकीमती चार मंजिला बीहर को पूरी तरह से गायब करने के लिए बाहर कमरे इत्यादि बना दिए। पट्टे की जमीन को भूमिधरी और फिर उस जमीन पर प्राचीन बनी बीहर का कब्जा प्रशासन को केवल इसलिए नहीं दिखाई दे रहा है क्योंकि वहां से जुड़े एक महंत प्रशासन के बहुत नजदीकी हैं। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि यह प्रशासन की दोगली नीति नही चल पाएगी। इसको लेकर आंदोलन किया जाएगा व कोर्ट की शरण ली जाएगी। जब प्रशासन कहता है कि हजार साल पुराना पट्टा भी अवैध है तो फिर इस पट्टे को क्यों नही खारिज किया जा रहा है। क्यों प्राचीन बीहर व पर्यटन विभाग द्वारा बनवाए गए शेडों को यात्रियों की सुविधा के लिए खोला जा रहा है।
उप जिलाधिकारी कर्वी ने बताया कि प्राचीन बीहर होने जानकारी मिली है। इसकी पूरी जांच कराकर विधिक कार्यवाही की जाएगी।

Advertisement