चित्रकूट भाग्य विधाता साबित हो सकते हैं मोदी…

37

मोदी का चित्रकूट आगमन दे रहा भविष्य का बड़ा संकेत

  • 29 फरवरी को मोदीजी और चित्रकूट की प्रश्न कुंडली में लग्न एक समान होने से बदल सकता है चित्रकूट का भाग्य।
  • श्री जयेन्द्र सरस्वती वेद विद्यालय के ज्योतिष आचार्य डाॅ गोपाल दास तिवारी ने किया दावा

संदीप रिछारिया

योग लगन गृह वार तिथि सकल भए अनुकूल।

चित्रकूट। गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा लिखित श्रीरामचरित मानस बालकांड का 140 वां दोहा भले ही हमें मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम जी के धरती पर अवतरण होने का सुमंगल गान करता है, वहीं अब 29 फरवरी को चित्रकूट में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आगमन भी चित्रकूट के दीर्घकालिक संपूर्ण विकास का परिचायक सिद्व होने वाला है। चित्रकूट की प्रश्न कुंडली व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जन्मकुंडली की लग्न एक समान होने से न चित्रकूट का भाग्य बदलने के आसार साफ नजर आ रहे हैं। यह दावा है चित्रकूट में गुरूकुल परंपरा का निर्वहन करने वाली संस्था सीतापुर के सेठ जी की बगिया में स्थित श्री जयेंद्र सरस्वती वेद विद्यालय में छा़त्रों को ज्योतिष की शिक्षा देने वाले डाॅ गोपाल दास तिवारी का है।

उनका कहना है कि ज्योतिष एक प्राच्य ऋषि विद्या है। जो अंधकार में छलांग लगाकर अभीष्ट या भावी संभावनाओं का फलादेश करती है। उन्होंने चित्रकूट की 29 फरवरी की प्रश्न कुंडली व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जन्म कुंडली का तात्विक विवेचन कर बताया कि प्रधानमंत्री मोदी का चित्रकूट आगमन शुभाशुभ है। डाॅ तिवारी ने दावा किया कि प्रधानमंत्री केवल गोंडा की जनसभा तक ही अपनी चित्रकूट यात्रा को सीमित नही रखेगें बलिक वह चित्रकूट में एक से अधिक स्थानों पर जाएंगे। वह यहां पर कुछ घंटे बिता सकते हैं।

चित्रकूट की प्रश्नकुंडली की विवेचना कर बताया कि चित्रकूट विश्व की धार्मिक व आध्यात्मिक राजधानी है। यहां पर स्वयं प्रकट शिव विराजते हैं। ब्रहृमा जी ने यहां राम और शिव की पूजा की थी। जो कि स्वयं महादेव महाराजा मत्स्यगयेंद्र नाथ जी के नाम से विद्यमान है। विश्व की पहली नदी पयस्वनी, मां अनुसुइया के तपबल से निकली मंदाकिनी का यशोगान वेद पुराण कर रहे हैं। ऐसे स्थान की प्रश्न कुडली सदा सर्वदा शुभ है। तात्विक विवेचन के उपरांत बताया कि मीन लग्न का उदय होने व मीन के स्वामी शुक्र के कर्मक्षेत्र में उपस्थित हो जाने व साथ ही कर्मक्षेत्र में धनु राशिस्थ गुरू अपनी ही राशि में विद्यमान होने के कारण मोदीजी चित्रकूट के उन्नयन के लिए विशेष और अप्रत्याशित घोषणाएं कर सकते हैं। दशम स्थान का मंगल इस क्षेत्र के विकास हेतु अपार धन के निवेश के संकेत दे रहा है। कर्म क्षेत्रगत चंद्र के कारण इस क्षेत्र के प्रति मोदीजी का बड़ा ही सौम्य भाव रहेगा। जिसके चलते सहृदय और सरस भावना से कुछ ऐसी उद्घोषणाएं होंगी जो चित्रकूट के सम्यक उन्नयन में प्रबलता के साथ सहायक सिद्व होंगी। लगनस्थ भ्रगु के समभाव से भी तटस्थता की स्थिति वर्तमान में होना भी उपरोक्त फलादेश की संपुष्टि करता है। आय स्थान गत शनि स्वराशि में स्थित होकर भी लाभकारी उद्वम की संस्थापना का प्रबल संकेत करता हुआ दृष्टिगोचर हो रहा है।
इस प्रकार राहू और केतु से संपुटित समस्त गृह अति दु्रत गति से पूर्वोक्त समस्त कार्यों की परिणित करने में सहयोग करेंगे।

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुंडली की विवेचना करने के बाद डाॅ श्री तिवारी ने बताया कि वृश्चिक लग्न में राशीश मंगल इन्हें अपनी अलग शैली का बनाकर अप्रत्याशित कार्य करने वाला बनाता है। संयोग से इनकी राशि भी वृश्चिक है। चंद्र भौम की युति पारिवारिक रूप से एकाकी तथा लोकमंगल की सक्रिय भावना से ओतप्रोत करती है। केंद्रस्थ सुखभावगत गुरू इन्हें विषम भटकाव की दशा में दिग्भ्रमित राष्ट्र को एक चिरंतर दिशा प्रदान करनेे वाला बनाते है। चित्रकूट की प्रश्न कुंडली व मोदी जी की कुंडली का तुलनात्मक अध्ययन करने के बाद यह निष्कर्ष प्राप्त होता है कि प्रश्नकुंडली में दशम भाव मंगल चंद्र, मोदी जी की कुंडली में लग्नगत हैं। अस्तु इन्हें विशेष कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करेंगे। यह भी कह सकते हैं कि सभी उभय गृह इन्हें इस स्थली की ओर आक्रष्ट कर रहे हैं। गृहों की स्थिति ही इन्हें चित्रकूट के विकास के लिए स्वस्थ क्रियान्वयन की भावधारा से परिपूर्ण करेगी।

Advertisement