जानवरों के चारे में भी ओवररेटिंग व कलाबाजारी

49

रायबरेली – कोरोना जैसी घातक बीमारी को लेकर देश मे किये गए लॉक डाउन का आज चौथा दिन है । अभी तक सरकार और प्रशासन लोगो से खाद्य सामग्री और स्वास्थ्य सम्बन्धी चीजो की कालाबाजारी न करने का अनुरोध कर रही थी और न मानने वालों पर सख्त कार्यवाई भी कर रही थी । लेकिन लोगो ने अब बेजुबान जानवरो के चारे की कालाबाजारी भी शुरू कर दी, जो चारा 2 से 3 रुपये किलो बिक रहा आज विक्रेताओं ने उसकी कीमत 6 से 10 रुपये किलो तक कर दी, मामला रायबरेली जनपद है जहां आज सुबह भूषा और पराली की लगने वाली मंडी का है जहां पर आज सुबह उस समय हड़कंप मच गया जब पशु पालक रोजाना की तरह जानवरो को खिलाने के लिए भूसा और पराली लेने पहुंचे तो थोक विक्रेताओं ने अचानक 2-3 रुपये किलो बिकने वाले पराली के भाव अचानक 6से 7 रुपये और 4 रुपये किलो बिकने वाले भूसे का भाव 8 रुपये किलो तक कर दिया जिससे कि मंडी में झगड़े की स्थिति उत्पन्न होने लगी ।

साहब कैसे पालें जानवरो का पेट

चारा मंडी में अपने पशुओं के लिए चारा लेने आये पशु पालको की माने तो रोज यही लोग जिस भाव से भूसा और पराली बेचते थे आज उससे कई रुपये महंगा दे रहे हैं ऐसे में हम कैसे जानवरों को चारा खिलाएंगे ।

ओवररेटिंग करने वालो को लगाई फटकार ।

मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट ने व्यापारियों को फटकार लगाते हुए उचित मूल्य पर भूसा और पराली बेचने की बात कहने के साथ ही हिदायत देते हुए कहा कि उचित मूल्य पर बिक्री नही करते तो तत्काल वापस चले जाएं, यदि ऐसा नही होगा तो कठोर कार्यवाई की जाएगी ।

कैमरे के सामने कतराते रहे अधिकारी

वहीं इस मामले पर जब सिटी मजिस्ट्रेट से सवाल किया गया कि यदि ये व्यापारी बिना भूसा और पराली बेचे वापस चले गए तो पशु पालक अपने पशुओं का पेट कैसे भरेंगे तो सिटी मजिस्ट्रेट ने कोई भी बयान देने से इनकार कर दिया ।

इनपुट – सौरभ शुक्ला

Advertisement