जाने कब पहुंचेगी बेटियों बारात व् दुल्हनों की डोली गांव के दरवाजे

28

कौशाम्बी | जनपद की चायल तहसील में एक गाव ऐसा भी है, जहाँ पिछले 75 सालो में लोगो के दरवाजे पर कभी बरात नही आई | आज भी यह गंगा के किनारे का गाव विकास की राह देख रहा है | अफसरों की लापरवाही और नेताओ की उपेक्षा का शिकार इस गाव में आज भी कोई शख्स बीमार होता है तो उसे ग्रामीण तीन किलो मीटर पैदल लेकर जाते है | गांव के ऐसे हालत तब है जब जनपद में सांसद विधायक होने के साथ देश और प्रदेश में बीजेपी की सरकार है | 

ये कहानी है उत्तर प्रदेश के सबसे पिछड़े जिले में गिने जाने वाले कौशाम्बी के गंगसरी गाव की | यह गाव आज़ादी के पहले से गंगा नदी के किनारे पर आबाद है | गाव की आबादी सरकारी आकड़ो में तकरीबन 1500 के करीब है लेकिन इस गंगसरी गाव में आज भी मुख्य मार्ग एक पगडण्डी ही है | पगडण्डी के सहारे आज भी लोग इस गाव में आते और जाते है | इतना ही नही रास्ते की प्रमुख समस्या के कारण गाव के लोग के घरो के दरवाजे तक आज भी किसी बेटी की बरात नही आई और न ही किसी बेटे की दुल्हन डोली पर बैठ कर अपने ससुराल तक ही आ पायी है | 
गंगा नदी के किनारे बसे गंगसरी गाव की यह एक मात्र 75 साल की महिला सदीकुल बीबी है | माथे की सिलवटे और आँखों की कम होती रोशनी को आज भी गाव के विकास का इन्तजार है | सदीकुल बीबी की पडोसी सीमा बताती है | उनकी शादी को 17 से 18 साल पहले हुयी थी | बीते दिनों को याद कर सीमा ने बताया उनकी शादी उनके पति के ननिहाल से हुयी थी | वह डोली में बैठ कर अपनी ससुराल नही आई | सीमा यह भी बताती है कि गाव में यदि किसी की तबियत खराब होती है तो उसे लेकर तकरीबन तीन से चार किलो मीटर पैदल जाना पड़ता है तब किसी तरह का वाहन मिल पाता है | आज भी उनके गाव तक किसी की बारात दरवाजे तक नही आई | 
 
क्या बोले विधायक चायल 
चायल तहसील के मूरतगंज ब्लाक में बसा यह गंगसरी गाव के लिए विकास के पहिये आज भी जहाँ के तहां रुके है | विकास के नाम पर सरकार ने एक प्राथमिक स्कूल बनवाकर फिर कभी गाव वालो की तरफ नही देखा | सत्ता धारी दल के विधायक संजय कुमार गुप्ता से गंगसरी के मामले का सवाल किया गया तो उन्होंने बताया कि चुनाव के प्रचार के दौरान गांव की समस्या सामने आई थी | अधिकारियो से इस सम्बन्ध में बात कर दिशा निर्देश दिया गया था | यदि अब भी गांव में जाने को मुख्य मार्ग नहीं बना है तो जल्द निर्माण कराया जायेगा | 
 
क्या कहते है एसडीएम 
एसडीएम चायल ज्योति मौर्या का कहना है कि चायल तहसील के गंगसरी गांव में जाने को मुख्य मार्ग नहीं बना है | इसकी जानकारी उनके संज्ञान में आई है | सड़क बनवाये जाने की दिशा में उच्च अधिकारियो को जानकारी दी गई है | जल्द ही मुख्य मार्ग का निर्माण कराया जायेगा | 
Advertisement