डीएम आदेश आते ही बाजार से गायब हुआ सेनेटाइजर

6

बांदा। प्रधानमंत्री के 21 दिन के लाकडाउन की घोाणा के तीन दिन पहले जनता कर्फ्यू वाले दिन मास्क व सेनेटाइजर की मांग व अधिक मात्रा में बिक्री को देखते हुये जिलाधिकारी बांदा अमित सिंह बंसल द्वारा आदेश जारी कर मास्क व सेनेटाइजर की दरों को निर्धारित कर दिया था। लेकिन जिलाधिकारी के निर्देश के बाद लोगों को एक्का दुक्का दुकानों में मंहगा मिलने वाला सेनेटाइजर भी मिलना बंद हो गया है।

सेनेटाइजर बाजार से पूरी तरह से गायब है। शहर के ज्यादातर मेडिकल स्टोरों में सेनेटाइजर व मास्क नही मिल रहे है। इसका कारण यह भी माना जा रहा है कि डीएम द्वारा निर्धारित की गई दरों में कम्पनियां मास्क व सेनेटाइजर की अपूर्ति नही कर पा रही है।

मालुम हो कि कोरोना वायरस को देखते हुये लोगों को जिला प्रशासन द्वारा सेनेटाइजर का उपयोग करने की सलाह दी जा रही थी। लेकिन मेडिकल स्टोरों सहित अन्य दुकानों में सेनेटाइजर मंहगे दामों में बेंचे जा रहे थे। जिसको देखते हुये जिलाधिकारी अमित सिंह बंसल ने बीते 22 मार्च जनता कर्फ्यू वाले दिन मास्क व सेनेटाइजर के दाम निर्धारित करते हुये अधिक बिक्री पर बेंचने वालों पर कार्यवाही करने की चेतावनी दी थी। डीएम के आदेश आते ही बाजार से सेनेटाइजर व मास्क पूरी तरह से गायब हो गया। किसी भी मेडिकल स्टोर व दुकानों में सेनेटाइजर नही मिल रहा है। डीएम द्वारा टू लेयर मास्क के दाम आठ रूपये, थ्री लेयर मास्क 10 रूपये तथा 200 एमएल सेनेटाइजर की कीमत अधिकतम 100 रूपये निर्धारित की थी। जिससे जनता ने राहत की सांस ली थी कि अब सस्ते दामों में मास्क व सेनेटाइजर मिल सकेगा। लेकिन वर्तमान परिस्थिति में अधिकतम दुकानों में सेनेटाइजर व मास्क उपलब्ध ही नही है। यदि मिल भी रहा है तो वह डीएम द्वारा निर्धारित किये गये दामों से उपर मिल रहा है। जिससे आम जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आम जनता ने जिलाधिकारी से मांग की है कि बाजार में सेनेटाइजर व मास्क की उपलब्धता निर्धारित किये गये दरों के हिसाब से उपलब्ध कराई जाये।

रिपोर्टर – सुधीर त्रिवेदी

Advertisement