धरती के आभूषण पेड़-पौधे जीवन को देते हैं संजीवनी:-चंद्रमती चतुर्वेदी

16

समाज सेवी कवित्री चंद्रमती चतुर्वेदी ने कहा कि पेड़ पौधे धरती के आभूषण होते है तथा जीवों के लिए संजीवनी भी होते हैं। धरती की हरियाली से पर्यावरण का सौंदर्य है। पर्यावरण में बढ़ रहे प्रदूषण पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि पर्यावरण को प्रदुषण मुक्त बनाने के लिए वृक्षारोपण अवश्य करना होगा उन्होंने सभी से वृक्षारोपण करने की अपील करते हुए कहा कि हम यदि प्रतिबर्ष पांच पांच पौधे रोपित करें तो पर्यावरण को प्रदुषण मुक्त बना सकते हैं।पेड़ पौधों से ही बेहतर मानसून की अपेक्षा की जा सकती है जो आज मानव जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक है।

उन्होंने अपनी स्व रचित कविता”हमने ही प्रदूषित कर डाला करके नादानी, कि हमने वृक्षो की हानी”इस भीषण उमस और गर्मी की तपिश एक बार फिर से पर्यावरण की याद दिलाता है। भीषण गर्मी और बढ़ते तापमान के कारण लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो रहा है कहा कि प्राय देखा जा रहा है कि लोग पर्यावरण की परवाह किए बगैर धरती के हरियाली पर आरा चलाये जा रहे हैं। वृक्षों का रोपण करने के लिए लोग उदासीनता अपना रहे हैं। जिसके कारण आज भीषण गर्मी और तपिस से जनजीवन खतरे में पड़ गया है।

भीषण गर्मी से लोग -त्राहि त्राहि कर रहे हैं जनजीवन हांफ रहा है। लोग सुर्यदेव को कोस रहे हैं जब कि वृक्षारोपण ना करना लोगों को वृक्षारों- पण करने की सलाह ना देना पेड़ पौधों को काटना और कटवाना प्रकृति के साथ खिलवाड़ करना ही पर्यावरण के विनाश का कारण है। जिससे आज हम भीषण गर्मी और उमस का सामना करने पर विवश हैं उन्होंने पेड़ों के अवैध कटान पर तत्काल रोक लगाए जाने की मांग शासन व संबंधित विभाग से की है।साथ ही उन्होंने वन विभाग समाज सेवी संगठनों एवं संस्थाओं के अलावा आम नागरिकों से वृक्षारोपण करने की अपील की। तथा वृक्षारोपण करने के लिए जागरूकता अभियान चलाने पर भी जोर दिया।

रिपोर्ट- मनोज कुमार तिवारी

Click