नेताओं में वर्चस्व की जंग, दो की मौत

30

औरैया। सूबे में कानून का राज स्थापित होने की बात भले ही हो रही हो मगर कानून का भय अपराध करने वालों में नहीं है, ऐसा ही मामला आज औरैया में सामने आया जहां गोलियों की तड़तड़ाहट के बाद दर्दनाक मंजर सामने आ गया। शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव में रविवार को दो गुटों के बीच फायरिंग में गोली लगने से भाई-बहन की मौत होने से सनसनी फैल गई। घटना के बाद से गांव में तनाव के हालात बन गए हैं, जिसे देखते हुए भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया है। मामले की जानकारी होते ही आलाधिकारियो व फोरेंसिक टीम ने मौके पर पहुंचकर साक्ष्य जुटाएं हैं और पुलिस ने सपा के एमएलसी समेत दो लोगों को हिरासत में लेकर छानबीन शुरू की है।

मिली जानकारी के अनुसार शहर कोतवाली के नरायनपुर गांव में रविवार सुबह सपा के पूर्व दर्जा प्राप्त मंत्री एवं विधानपरिषद सदस्य कमलेश पाठक मंदिर में दर्शन करने गए थे, इस बीच पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष अधिवक्ता मंजुल चौबे से वर्चस्व को लेकर विवाद हो गया। आरोप है कि मंजुल गुट ने उनपर हमला कर दिया लेकिन कमलेश पाठक समर्थकों के साथ किसी तरह बचकर निकले। मामले की जानकारी पुलिस को हुई मगर पुलिस के पहुंचने से पहले कमलेश पक्ष के लोगों और मंजुल गुट के बीच आमने-सामने फायरिंग हो गई, फायरिंग में मंजुल और उनकी बहन सुधा को गोली लग गई, भाई-बहन लहूलुहान होकर जमीन पर गिर पड़े तो हमलावर फरार हो गए, गोली लगने से भाई-बहन की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद गांव में तनाव का माहौल बन गया, पुलिस अफसर कई थानों का फोर्स लेकर गांव पहुंचे और घटना की जानकारी लेकर छानबीन शुरू कर दी है, भारी फोर्स तैनात होने से गांव छावनी बन गया है, वहीं गलियों में सन्नाटा पसरा है, मंजुल और उसकी मौत से घरवालों में कोहराम मचा है, उन्होंने कमलेश पाठक पर लाइसेंसी असलहा से दोनों को गोली मारकर हत्या करने का आरोप लगाया है, पुलिस सूत्रों के अनुसार कमलेश पाठक और उनके भाई पूर्व ब्लाक प्रमुख संतोष पाठक को हिरासत में लिया गया है, घटना में छह अन्य लोगों के भी नाम सामने आए हैं।

Advertisement