पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक की हुई स्थापना

60

वाराणसी। कोरोना वायरस से जंग में वाराणसी ज़ोन में अब पब्लिक और पुलिस एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं। जहां पुलिस और जनता ने मिलकर एक बैंक खोला है ये बैंक रुपए पैसे का नहीं बल्कि खाने का है। इसमें सुरक्षा से लेकर खाना पहुंचाने तक की जिम्मेदारी पुलिसकर्मियों की है। इस बैंक से उन सभी संगठनों और लोगों को जोड़ा गया है, जो अपनी सामर्थ्य के अनुसार से ऐसे लोगों के भोजन का इंतजाम कर सकते हैं।

इसलिए बनाई गई बैंक

दरअसल, लॉक डाउन के चलते ये देखा जा रहा है कि कई गरीब वर्ग के लोग जो हर दिन की कमाई से अपना घर चलते हैं, रोजगार ठप्प होने से सभी से ऊपर संकट आन पड़ा है। ऐसे में वाराणसी जोन के एडीजी बृजभूषण ने जोन के सभी आईजी, डीआईजी और पुलिस कप्तानों को साथ लेकर एक बैंक की स्थापना की है। इस बैंक का नाम दिया गया है पुलिस पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक।

इस बैंक ने कई उन संस्थाओं को भी जोड़ा गया है जो लोगों के हित में काम करते हैं। पुलिसलाइन और थानों के मेस हैं, उन्हें भी जोड़ा गया है। भी थाने, चौकियां हैं, वो अपने-अपने इलाकों से भोजन के पैकेट को गाड़ियों से उठा रहे हैं। फिर शेल्टर होम और झुग्गी झोपियों में जाकर भोजन बांट रहे। इस बैंक का मतलब महज इतना है कि कोई भी व्यक्ति भूख से परेशान ना हो, सभी को खाना मिल जाए।

रखा जाता है पूरा हिसाब

अन्य बैंकों की तरह यहां भी पूरा और हर बात का हिसाब रखा जाता है, जैसे कितना खाना बना, कितने पैकेट बनें, कितने पैकेट बटे। एडीजी वाराणसी जोन बृजभूषण ने बताया कि पूर्वी यूपी के वाराणसी, बलिया, गाजीपुर, मऊ, चंदौली, भदोही, मिर्जापुर, सोनभद्र, जौनपुर और आजमगढ़ जिलों के आईजी, डीआईजी और पुलिस कप्तानों को इस बाबत निर्देश दिए गए हैं।

Advertisement