पुलिस से घर बैठे समोसे मंगाना पड़ा महंगा, डीएम ने साफ कराई नाली

112

कोरोना की वैश्विक महामारी पर प्रधान मंत्री द्वारा पूरे देश मे लॉक डाउन किया गया है। लॉक डाउन के दौरान किसी को समस्या न आये इसलिए हर जिले में प्रशासन की तरफ से हेल्प लाइन नम्बर जारी किए हैं। इन नम्बरो पर फोन कर के अपनी समस्या बताई जा सकती है और साथ ही जरूरत का सामान भी मंगाया जा सकता है। इस व्यवस्था के तहत पूरा प्रशासनिक अमला लोगो को घर बैठे सुविधाये देने के लिए लगा हुआ है। स्वयं प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री जनता की समस्याओं पर सीधे नजर बनाए हुए हैं। इस सुविधा का दुरुपयोग करने के भी रोज नए नए मामले सामने आ रहे हैं।

दरअसल उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में डोर स्टेप डिलीवरी व्यवस्था का दुरुपयोग करने का मामला सामने आया है जहाँ एक सिरफिरे युवक ने आधी रात में पुलिस को फोन कर के 4 समोसे की मांग कर दी। पुलिस द्वारा समझाया गया कि आपदा के वक्त मजाक करना ठीक नही है। हम अति आवश्यक वस्तुओ के किये आपकी सेवा में तत्पर हैं। किंतु युवक ने एक न सुनी और कई बार कंट्रोल रूम फोन मिला दिया।

युवक के बार बार फोन करने पर कंट्रोल रूम वालो ने मामला उच्चाधिकारियों के संज्ञान में ला दिया जिसके बाद उसे समोसे भेजे गए। ख़ुद डीएम साहब ने कमान संभाली और सरकारी व्यवस्था के दुरुपयोग के चलते सजा के रूप में उस युवक से नाली साफ करवाई। डीएम ने आगे अपील की जिम्मेदार बने, स्वस्थ रहें।

पूरे मामले की रामपुर डीएम ने ट्वीट कर लोगो को जानकारी दी। कहा 4 समोसे आखिर भिजवाने ही पड़े। सरकारी व्यवस्था का दुरुपयोग करने पर जनहित में नाली साफ करवाई गई। सजा का फोटो भी डीएम के हैंडल से अपलोड किया गया ।

Advertisement