प्रारंभिक शिक्षा की नींव रखने वाले शिक्षक को नहीं भूलते हम : डीएम

9

शिक्षा को शिखर तक पहुँचाने में अहम भूमिका निभाता है शिक्षक: उमेश द्विवेदी

बच्चों की उत्सुकता को शिक्षक ही रख सकता है बरकरार: डीएम

डीएम माला श्रीवास्तव और शिक्षक विधायक उमेश द्विवेदी ने अजय कुमार सिंह को राज्य पुरस्कार से किया सम्मानित

रायबरेली-शिक्षक दिवस के मौके पर शिक्षकों का सम्मान समारोह माध्यमिक और बेसिक शिक्षा विभाग की तरफ आयोजित किया गया। बीएसए ऑफिस में आयोजित सम्मान समारोह के मुख्य अतिथि शिक्षक विधायक उमेश द्विवेदी और जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव रही। इस दौरान लखनऊ में आयोजित राज्य शिक्षक सम्मान समारोह कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया गया। वहीं, वर्ष 2021 का राज्य शिक्षक पुरस्कार पाने वाले प्राथमिक विद्यालय राजापुर के शिक्षक अजय सिंह को अतिथियों की तरफ से सम्मानित किया गया।

शिक्षक विधायक उमेश द्विवेदी ने कहा कि शिक्षक का कोई मोल नहीं है। शिक्षक ही एक ऐसा व्यक्ति होता है जो कि माता-पिता के बाद अपने शिष्य को हमेशा ही आगे बढ़ता देखकर हमेशा खुश होता है। शिक्षक कभी भी अपने शिष्य से ईर्ष्या नहीं करता है। एक शिक्षक वही है जो कि हमेशा ही शिक्षा का प्रकाश फैलाता रहा है। इसीलिए शिक्षक का हर व्यक्ति के जीवन में कोई स्थान नहीं ले सकता है।

जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने कहा कि शिक्षक एक ऐसा दीपक है जो कि अपने प्रकाश से पूरे वातावरण में शिक्षा की रोशनी फैलाता रहता है। उन्होंने कहा कि किसी भी विद्यार्थी के जीवन में शिक्षा की नींव यानी प्रारंभिक ज्ञान देने वाले शिक्षक का बहुत ही महत्व होता है। वे ऐसा शिक्षक होता है जिसको कोई भी व्यक्ति अपने जीवनभर में कभी भी नहीं भूल सकता है। उन्होंने कहा कि मैं आज भी एलकेजी की मैम को हमेशा ही याद करती रहती हूँ। आखिर वे किस तरह से मेरे पूरे संघर्ष को हमेशा गाइड करती रहती। आज मैं जो कुछ भी हूँ, उसमें उन सभी गुरुओं का बहुत ही बड़ा योगदान हैं, जिन्होंने मुझे प्राइमरी से लेकर यूपीएससी तक की तैयारी में गाइड किया और मुझे पढ़ाया। प्राइमरी के शिक्षक की बहुत बड़ी जिम्मेदारी बनती हैं कि वे बच्चों की नींव को बहुत ही मजबूती के साथ में रखें।

डीएम ने कहा कि बच्चों के अंदर की उत्सुकता को हमें कभी खत्म की नहीं करनी चाहिए। शिक्षक को बच्चों की जागरूकता को बनाएं रखना होगा। हमें बच्चों की क्षमता को खत्म नहीं करना चाहिए। प्राइमरी के शिक्षक को बच्चों को सही और गलत की पहचान जरूर करानी चाहिए। बच्चों की समस्या को अलग से हल करने की कोशिश करनी चाहिए। हमें बच्चों को उनकी क्षमता के हिसाब से आगे बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा कि मैं चाहती हूं कि जब भी किसी गांव में निरीक्षण करने के लिए हम जाएं तो बच्चे हमसे जरूर प्रश्न पूछे। बच्चों के अंदर की झिझक को अगर कोई दूर कर सकता है तो वे सिर्फ शिक्षक ही है। प्रश्न के सवाल पर उन्होंने सिंगापुर का भी जिक्र किया, कि आखिर कैसे करके भारत में प्रश्न शिक्षक पूछते हैं। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने शिक्षकों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि आप लोग ऐसा काम करें कि अगले साल आपका नाम राज्य पुरस्कार के लिए चयनित हो। उन्होंने कहा कि शिक्षक को सदैव ही ज्ञान की रोशनी फैलानी चाहिए। हमें नौकरी समझकर नहीं बल्कि सेवा के रूप में यह पुण्य कार्य करना चाहिए।

इस मौके पर प्रदेश स्तर पर जिले का नाम रोशन करने वाले आदर्श शिक्षा निकेतन के प्रबंधक राकेश कुमार सहित तीन विद्यालयों के शिक्षकों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन संकुल बल्ला नोडल नीरज कुमार ने किया। कार्यक्रम में सरस्वती वंदना परिषदीय विद्यालय शंकरगंज की शिक्षिका ने की।

इस मौके पर सीडीओ प्रभाष कुमार, जीआईसी प्रधानाचार्य रत्नेश श्रीवास्तव, बीईओ मुख्यालय वीरेंद्र कनौजिया, बीईओ राही बृजलाल, अवलिय सिंह, रेनू शुक्ला, मीना तिवारी, एसआरजी सुनील यादव, राजवंत, शैलेंद्र सिंह सहित सैकड़ों शिक्षक मौजूद रहे।

गुरुजनों का जीवन में होता है बहुत बड़ा योगदान: अदिति सिंह

सरकार के कायाकल्प अभियान ने पूरी तरह से विद्यालयों को बदल दिया है। अब सरकार के बेहतर अभियान ने पूरी तरह से दिशा और दशा को बदल दिया है। उक्त बात सदर विधायक अदिति सिंह ने सेवानिवृत्त शिक्षक और 75 छात्रों के सम्मान समारोह के दौरान कहीं। अमावां की बीआरसी में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि मेरी विधानसभा में अगर किसी को कोई दिक्कत होती है, तो फिर आप लोग मेरे पास आ सकते हैं। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि वर्ष 2017 से प्रदेश के स्कूलों की हालत बहुत बिगड़ी हुई थी, अब तो प्रदेश भर के स्कूलों की हालत पूरी तरह से बदल चुकी है। अतिथियों में मुख्यरूप से डायट के प्रवक्ता जेपी सिंह, राजेंद्र सिंह, बीईओ मुख्यालय वीरेंद्र कनौजिया, बीईओ अमावां रत्नामणि मिश्रा रही। इस मौके पर आरएसएम के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह, ब्लॉक अध्यक्ष बृजेन्द्र सिंह, रणविजय सिंह, रामेश्वर, विनोद यादव आदि लोग मौजूद रहे।

अनुज मौर्य रिपोर्ट

Advertisement