फलफूल रहा सरकारी सीमेंट खपत का गोरखधंधा

67

प्रतापगढ़। शासन द्वारा पंजीकृत ठेकेदारों की मिलीभगत से खपाया जा रहा नॉट फॉर सेल का सीमेंट, की जा रही टैक्स चोरी।
विकासखंड मांधाता के छतौना ग्राम प्रधान रामअजोर पटेल सरकारी सीमेंट से करवा रहे हैं अपने भवन का निर्माण कार्य
प्रतापगढ़ में नॉट फॉर सेल वाली सीमेंट की बिक्री करके सरकारी टैक्स चोरी करने का मामला सामने आया है विभाग में पंजीकृत ठेकेदारों को मिलने वाली सीमेंट का उपयोग किया निजी कार्य के लिए किया जा रहा है, जबकि इस सीमेंट का उपयोग सिर्फ सरकारी कार्य में किया जा सकता है।

विकासखंड मांधाता के छतौना (नंदा का पुरवा) ग्राम प्रधान रामअजोर पटेल अपनी इमारत बनवाने में नॉट फॉर रिटेल रिसेल सीमेंट का प्रयोग कर रहा है जिसका एक वीडियो भी सामने आया है जहा सैकड़ो बोरी बन रहे आशियाने में सीमेंट स्टॉक किया गया है नॉट फॉर सेल की सील लगी हुई सीमेंट का प्रयोग निजी भवन को बनाने के लिए किया जा रहा है भवन में प्रयोग की जाने वाली सीमेंट पर अम्बुजा बिल्डसेम कम्पनी का भी लोगो लगा हुआ है यह सीमेंट ग्राम प्रधान को यह सीमेंट कहा से मिली इसकी जानकरी नहीं हो पायी

बता दे की यह सीमेंट का उपयोग सिर्फ कमर्शियल कार्यो के लिए होता है और निजी उपयोग पर अपराध की श्रेणी में आता है लेकिन जिले में ऐसे मामले पहले भी आ चुके है जब निजी भवनों के निर्माण के लिए ठेकेदार की मिलीभगत से इसका प्रयोग किया गया हो

यदि आज की तारिख में बात की जाय सीमेंट की कीमतों की तो सीमेंट लगभग 400 रूपये प्रति बैग है जो आम जनमानस उपयोग कर सकता है और इसमें पर 28 प्रतिशत टैक्स सम्मिलित है जिसमे 14 % राज्य सरकार को जबकी 14 % केंद्र सरकार की मिलता है और मिलने वाले टैक्स से देश का विकास किया जा जाता है, वही नॉट फॉर सेल की सीमेंट को निजी उपयोग करके सरकारी कोष में जाने वाले टैक्स की चोरी की जारी है जिसमे जितना दोष उपयोग करने वाले लोगो का है उससे अधिक दोषी वह ठेकेदार है जिसने सीमेंट की बिक्री की है

जिले में लगातार बिक रहे नकली सीमेंट के बाद अब नॉट फॉर रीटेल रीसेल की सीमेंट के सौदागरों पर जिला प्रसाशन को आवश्यक कार्यवाही करने की आवश्यकता है जिससे जिले में धड़ल्ले से उपयोग कर सरकारी खजाने को लगाए जा रहे चूना पर अंकुश लग सके।
हालांकि इस पूरे प्रकरण की हकीकत जानने के लिए ग्राम प्रधान से दूरभाषा के जरिए संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन ग्राम प्रधान ने फोन नहीं उठाया।

रिपोर्ट- अवनीश कुमार मिश्रा

Advertisement