उम्मीदों की किरण को लगे पंख, यमुना जल पहुंचा सिलौटा वॉटर ट्रीटमेंट प्लॉन्ट

9

डीएम-एडीएम ने वर्चुअल माध्यम से कनेक्ट होकर नमामि गंगे टीम को दीं शुभकामनाएं

चित्रकूट। कुछ महीने पहले की मूसलाधार बारिश और कड़ाके की ठंड के बीच चुनौती की तरह पूरे चित्रकूट में चल रही जल जीवन मिशन स्कीम योजना ने आज एक नई मुकाम को हासिल किया है। जिसके अंतर्गत यमुना नदी का जल 11 किलोमीटर दूर स्थित अतर सुई गांव के पास सिलौटा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट पहुंच गया।

इस वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के लिए 600 mm डायमीटर की डीआई पाइपलाइन पिछले 1 साल से अनेक तकनीकी एवं प्रशासनिक चुनौतियों के बीच डाली जा रही थी और पिछले 15 दिन, रात-दिन लग करके पूरी कर ली गई।

जल जीवन मिशन के अंतर्गत तीन बड़ी प्रमुख परियोजनाओं में से यह एक परियोजना है जो 77 गांवो को जल पहुंचाने के लिए बनाई जा रही है।

इस परियोजना में इंटेक वेल यमुना नदी पर बन रहा है जबकि वाटर ट्रीटमेंट प्लांट अतर सुई गांव के पास जो कि 11 किलोमीटर दूर बन रहा है।

इस अवसर पर रॉ वाटर पाइप लाइन की कमिश्निंग के मौके पर डीएम अभिषेक आनंद ने वर्चुअल माध्यम से अपने व्यस्ततम शेड्यूल के साथ लाइव कनेक्ट होते हुए प्रोजेक्ट मैनेजर जितेंद्र कुमार तिवारी को हरी झंडी दिया।

साथ ही पूरी टीम की हौसला अफजाई करते हुए निर्देश दिए कि आगे की पाइप लाइन का भी काम इसी तरीके से टेस्टिंग करते हुए प्राथमिकता के आधार पर गांवो को कनेक्ट करें।

डीएम अभिषेक आनंद योजना की महत्व को ध्यान रखते हुए निजी तौर पर समसामयिक समीक्षा और निरीक्षण करते रहे हैं और बाढ़ उतरने के बाद पिछले 3 महीनों मैं अत्यंत द्रुत गति से कार्य की रफ्तार दिख रही है।

इस अवसर पर एडीएम नमामि गंगे सुनंदु सुधाकर ने भी टीम को अथक परिश्रम के लिए शुभकामनाएं दी और कार्य की गति बनाए रखने के लिए कहा उन्होंने बताया की जल जीवन मिशन भारत सरकार की अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना और जिस को पूर्ण करना सभी की प्राथमिकता में है।

प्रोजेक्ट मैनेजर जितेंद्र कुमार तिवारी ने बताया कि सभी कंपोनेंट पर कार्य दिन-रात चल रहा है और शीघ्र ही वाटर ट्रीटमेंट के पश्चात क्लियर वाटर राइजिंग मेन की टेस्टिंग का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

इसके पश्चात गांवो को, क्रमवार, कनेक्ट किया जाएगा इस दौरान यमुना के जल के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट में पहुंचते ही क्लेरिफ़्लोकलटर मैकेनिज्म, फ़्लैश मिक्सर, बाईपास चैनल एवं ड्राप चेंबर की भी कमिश्निंग की गई।

गौरतलब है कि राज्य और भारत सरकार के द्वारा मिलकर क्रियान्वित की जा रही जल जीवन मिशन स्कीम चित्रकूट जनपद की वर्षों पुरानी पेयजल की समस्या को निदान करने की एक बड़ी योजना है। जिसका लाभ ग्रामीण क्षेत्र के हर घर जल के माध्यम से मिलना है।

इसमें संपूर्ण जनपद के गांवों में एचडीपी एवं जी आई पाइप लाइन के माध्यम से पानी के पाइप लाइनें बिछाई जा रही है एवं उनसे टाइप वाटर कनेक्शन दिया जा रहा है इन लाइनों को जोन वाइज बने हुए ओवरहेड टैंक से जोड़ा जाएगा एवं उन टैंक को पंप हाउस के माध्यम से भरा जाएगा उन पंप हॉउस को ही पानी पहुंचाने के लिए वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण किया जा रहा है जिसका उपयोग यमुना के जल का आवश्यक शोधन करना है।

रॉ वाटर पाइप लाइन की कमिश्निंग के मौके पर अभय नारायण दीक्षित परियोजना प्रबंधक टीपीआई एवं हरकेश अवर अभियंता जल निगम उपस्थित रहे, जबकि एडीएम नमामि गंगे ने वर्चुअल माध्यम से कनेक्ट होकर टीम को शुभकामनाएं दी।

  • पुष्पराज कश्यप
Advertisement