मसीहा बन गांव गांव में काम करने लगे “कांग्रेस कोरोना फाइटर्स”

81
WhatsApp Image 2020-03-27 at 15.46.59
पीड़ित परिवार से जानकारी लेते कोरोना फाइटर्स इब्ने हसन
कौशाम्बी। Covid 19 की जंग में शुक्रवार को सामाजिक एकता की मिशाल देखने को मिली है। जनपद के अलीपुरजीता गांव में राशन न होने से भुखमरी की कगार पर पहुंचे परिवार को कोरोना फाइटर्स ने राहत सामग्री पहुंचाई है। पीड़ित परिवार ने लाकडाउन में राहत सामग्री मिलने पर ख़ुशी जाहिर की है।  
 
गौरतलब है कि Covid-19 महामारी की सोशल चेन तोड़ने के लिए देश लॉक-डाउन के हालात से गुजर रहा है। ऐसे में आर्थिक रूप से कमजोर लोगो की मदद के लिए कांग्रेस पार्टी ने कोरोना फाइटर्स की टीम जनपद में सक्रीय की है | गांव में रहकर स्थानीय स्तर पर काम कर रही है। दो सदस्यों की टीम घरो में पहुंच कर लोगो से खाने के राशन आदि की जानकारी कर उन्हें मदद पंहुचा रही है। 
 
सिराथू तहसील के अलीपुरजीता गांव में दिव्यांग जमील अहमद का परिवार दिहाड़ी मजदूर है। पांच लोगो का यह परिवार मजदूरी बंद होने से आर्थिक व् भुखमरी के हालत में पहुंच गया था | ग्रामीण कांग्रेस कोरोना फाइटर्स ने पीड़ित परिवार को तत्काल राशन सामग्री व् आर्थिक मदद की है। मदद मिलते ही परिवार के लोगो ने काफी राहत की साँस ली है।  
 
कांग्रेस कोरोना फाइटर्स इब्ने हसन का कहना है कि उन्होंने अपने सामाजिक दायित्व का निर्वाह किया है। आगे भी जैसे जैसे लोग सामने आएंगे वह मदद के लिए पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने स्थानीय लोगो से अपील की है कि वह भी वैश्विक आपदा की इस घडी में अपने सामाजिक जिम्मेदारी को समझे। खुले दिल से जरुरत मंद की मदद करे।
 
जिला अध्यक्ष अरुण विद्यार्थी ने बताया कि गुरूवार को केंद्रीय नेतृत्व से निर्देश मिला था। जिसके क्रम में उन्होंने गांव स्तर पर अपने कांग्रेस के कार्यकर्ताओ से आवाहन किया कि वह अपने गांव में ही रहकर दो युवको की टोली बनाये और घर घर सोशल डिस्टेंस बनाकर जाय। ख़ास कर दिहाड़ी मजदूर परिवारों का हाल चाल पूछे और जरुरत महसूस होने पर आर्थिक व् भोजन सामग्री की मदद करे। जिसके अनुपालन में टीम ने काम शुरू कर दिया है। 

 
Advertisement