मार्च में सरकारी बैंकों में फिर होगी हड़ताल!

88

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के कर्मचारी मार्च में एक बार फिर हड़ताल कर सकते हैं. रिपोर्ट्स की मानें तो बैंक यूनियनें 11 से 13 मार्च तक तीन दिनी हड़ताल का आह्वान कर सकती हैं. बता दें कि बैंक कर्मचारी 31 जनवरी और 1 फरवरी को दो दिन की हड़ताल पर रहे थे. उनका कहना है कि कर्मचारियों की मांगें अभी तक नहीं मानी गई हैं.

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के कर्मचारियों की सैलरी को हर पांच साल पर रिवाइज किया जाता है. पिछली बार बैंक कर्मचारियों की सैलरी को 2012 में रिवाइज किया गया था. इसके बाद 2017 में होने वाला रिवीजन पेंडिंग है. इसी को लेकर कर्मचारी हड़ताल कर रहे हैं. इसके अलावा यूनियनों की यह भी मांग है कि बैंक कर्मचारियों को सप्ताह में दो दिन की छुट्टी मिले. बैंक कर्मचारियों की कुछ अन्य मांग भी हैं, जैसे- बेसिक पे के साथ स्पेशल अलाउंस, फैमिली पेंशन में सुधार आदि.

5 दिन कैसे बंद रहेंगे बैंक

अगर 11-13 मार्च को बैंक कर्मचारी हड़ताल पर जाते हैं तो बैंक 5 दिन बंद रह सकते हैं. इसकी वजह है कि तीन दिन की हड़ताल के बाद 14 मार्च को महीने का दूसरा शनिवार और उसके बाद 15 मार्च को रविवार पड़ रहा है. यानी अगर हड़ताल हुई तो बैंकों में 5 दिन कामकाज प्रभावित रहेगा.

नहीं मानी मांगें तो 1 अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल

बैंक यूनियनों ने इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के साथ सैलरी में रिवीजन को लेकर बातचीत की थी. लेकिन यह बेनतीजा रही. बैंक इंप्लॉइज फेडरेशन ऑफ इंडिया (BEFI) और ऑल इंडिया बैंक इंप्लॉई एसोसिएशन (AIBEA) कर्मचारियों की अगुवाई कर रही हैं. बैंक यूनियनों का यह भी कहना है कि अगर उनकी मांगों को नहीं माना गया तो वे 1 अप्रैल से अनिश्चितकालीन देशव्यापी बैंक हड़ताल करेंगे.

Advertisement