यहां फिर चोरों ने दी पुलिस को खुली चुनौती!

232

खीरों (रायबरेली) थाना क्षेत्र के अंतर्गत अब विद्या के मंदिर भी सुरक्षित नहीं हैं । प्राथमिक विद्यालय छत्ता का पुरवा का ताला तोड़कर शुक्रवार की रात अज्ञात चोरों ने एमडीएम का सारा सामान व राशन पार कर दिया । सूचना पर पहुंचे प्रधान शिक्षक राजेश कुमार सिंह ने घटना से संबन्धित प्रार्थना पत्र थाने में दिया है ।

प्राथमिक विद्यालय छत्ता का पुरवा के प्रधान शिक्षक राजेश कुमार सिंह ने बताया कि प्रतिदिन की तरह शुक्रवार को भी 3 बजे के बाद विद्यालय में ताला बंद कर सभी शिक्षक घर चले गए थे । शनिवार की सुबह ग्रामीणों द्वारा उन्हे विद्यालय में चोरी होने की सूचना मिली । मौके पर पहुँचकर देखा तो विद्यालय का ताला तोड़कर अज्ञात चोर गैस सिलेन्डर राशन व बर्तन, आदि सामान उठा ले गए । आसपास खोजबीन करने पर विद्यालय के शौचालय में भट्ठी व बाउंड्रीवाल के बाहर ताला तोड़ने में प्रयोग किया गया एक लोहे का राड मिला । जबकि टूटा हुआ ताला भी बाहर पड़ा मिला ।

उल्लेखनीय है कि प्राथमिक विद्यालय छत्ता का पुरवा का भवन ध्वस्त हो जाने के बाद प्राथमिक विद्यालय मथुराखेड़ा में इस विद्यालय को स्थानांतरित कर दिया गया है । दोनों विद्यालय एक ही परिसर में संचालित हैं । थाने से मात्र 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दोनों विद्यालयों में प्राथमिक विद्यालय मथुराखेड़ा में एक सप्ताह पूर्व 6 मार्च की रात अज्ञात चोरों ने ताला तोड़कर एमडीएम का सारा सामान पार कर दिया था । एक सप्ताह बाद दूसरी घटना को अंजाम दिया गया । 6 मार्च को ही इसी विद्यालय के नजदीक स्थित खेतों में गोहत्या का भी प्रकरण प्रकाश में आया था । दोनों मामलों में पुलिस द्वारा मुकदमा भी दर्ज किया गया था । गोहत्या के मामले में दो नामजद लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था । मथुराखेड़ा गाँव के आसपास आएदिन घट रही आपराधिक घटनाएं क्षेत्र में चर्चा का विषय हैं । ग्रामीणों में इस बात को लेकर भी काफी आक्रोश है । ग्रामीण बताते है की उक्त विद्यालय के पीछे जुयाडियों व शराबियों का अड्डा है । विद्यालय के पीछे शराब की खाली बोतले और पड़े पुराने ताश के पत्ते इस बात का प्रमाण हैं । क्षेत्रीय लोग पुलिस की सक्रियता और रात्रि गस्त पर सवालिया निशान लगा रहे हैं । प्रभारी निरीक्षक मणिशंकर तिवारी ने बताया कि चोरी हुयी होगी लेकिन घटना की जानकारी नहीं है । तहरीर मिलने पर मामले की जांच कर कार्यवाही की जाएगी ।

दिवाकर तिवारी

Advertisement