यहां हो रही अमित शाह के इस्तीफे की मांग

46

दिल्ली । भारतीय युवा कांग्रेस ने दिल्ली में लगातार बढ़ रही हिंसा को लेकर विशाल प्रदर्शन मांग किया, इस दौरान पदाधिकारियों ने कहा कि जबसे अमित शाह देश के गृह मंत्री बनते हैं तब से देश में व्यापक स्तर पर सांप्रदायिक गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है, देश की आंतरिक एवं बाह्य सुरक्षा पर जोखिम बढ़ा है।

जिससे देश के ग्रामीण पृष्ठभूमि से आने वाले सैनिकों ने देश के लिए शहादत दी है, जिसके कारण उनके परिवार को अनेक प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। देश के आंतरिक भागों में सुरक्षा करने वाले पुलिसकर्मियों ने भी सांप्रदायिक गतिविधियों को शांत करते हुए शहादत दी लेकिन सरकार ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया है। पिछले कई दिनों से दिल्ली दंगों की दहशत से गुजर रहा है लेकिन सरकार का दंगों को रोकने के लिए कोई नियोजित कार्यक्रम नहीं है। सरकार आंतरिक एवं बाह्य सुरक्षा देने में असफल रही है। भारतीय युवा कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी को ऑक्सीजन दंगा करने से ही मिलती है इसलिए वह देश में जाति,धर्म,भाषा के आधार पर देश के लोगों में भाईचारा खत्म कर रही है, जिस तरह से अंग्रेज ‘फूट डालो और राज करो’ की विचारधारा पर काम करते हुए देश को लंबे समय तक गुलाम बनाने में कामयाब रहे, उसी तरह यह सरकार लंबे समय तक शासन व्यवस्था में बने रहने के लिए तरह तरह के सांप्रदायिक हथकंडे अपना रही है, भारतीय युवा कांग्रेस के सोशल मीडिया के प्रभारी वैभव वालिया ने भी सोशल मीडिया पर ‘अमित शाह इस्तीफा दो’ को लेकर व्यापक स्तर पर अभियान छेड़ रखा है, दिल्ली प्रदेश युवा कांग्रेस के प्रभारी डॉ अनिल मीणा ने कहां है कि दिल्ली दंगों में 50 से अधिक बेगुनाह लोग मारे गए हैं और सैकड़ों लोग घायल हुए हैं , जिनका किसी भी सांप्रदायिक विचारधारा से कोई संबंध नहीं रहा, दिल्ली में दंगा भड़काने वाले हारे हुए विधायक कपिल मिश्रा सांसद प्रवेश वर्मा, अनुराग ठाकुर के भड़काऊ भाषण के बाद लगातार सांप्रदायिकता की आग में बेगुनाह लोगों ने अपने परिवार के सदस्यों की कुर्बानी देनी पड़ी, नफरत फैलाने वाले, सांप्रदायिकता का जहर घोलने वाले खुलेआम दंगा फैला रहे हैं, गृहमंत्री की उन पर कोई लगाम नहीं है। कल फिर एक बार कोलकाता में ‘गोली मारो सालों को’ जैसे नारे लगाकर बंगाल में सांप्रदायिकता के बीज बोने का कार्य किया गया । भारतीय जनता पार्टी देश को ग्रह युद्ध की आग में धकेलना चाहती है, ईमानदारी से इस जिम्मेदारी को नहीं निभाने वाले गृहमंत्री को इस्तीफा देना चाहिए, यदि वह नहीं देता तो राष्ट्रपति जी को इस में दखलअंदाजी करके देश में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए अमित शाह से इस्तीफा लेना चाहिए।

Advertisement