रात में भी कैमरों की नजर से देखे जाएंगे परीक्षा केंद्र

कलक्ट्रेट में बना कंट्रोल रूम 24 घंटे सक्रिय रहेगा, मुस्तैद रहेंगे कर्मचारी

रायबरेली। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के दौरान जिले में बनाए गए सभी 102 परीक्षा केंद्रों की निगरानी महज परीक्षा के दौरान ही नहीं होगी, बल्कि रात में भी ऑनलाइन निगरानी की जाएगी। इसके लिए जिला मुख्यालय पर कलक्ट्रेट परिसर में बने कंट्रोल रूम को 24 घंटे सक्रिय रखा जाएगा। परीक्षा के दौरान जहां सभी सीसीटीवी कैमरे ऑनलाइन रहेंगे, वहीं परीक्षा केंद्रों में प्रश्नपत्रों की निगरानी कर रहे कैमरे 24 घंटे सक्रिय रहेंगे।
कंट्रोल रूम में दोनों पालियों की परीक्षा के साथ ही रात में भी ड्यूटी के लिए कर्मचारी तैनात होंगे। यूपी बोर्ड एग्जाम 18 फरवरी से 6 मार्च तक होंगे। इसके लिए जिले में 102 परीक्षा केंद्र बने हैं, जहां 73 हजार से अधिक परीक्षार्थी एग्जाम देंगे। परीक्षाएं दो पालियों में होंगी। निगरानी के लिए सभी परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। ऑनलाइन मॉनीटरिंग के लिए कलक्ट्रेट परिसर में जिला स्तरीय मानीटरिंग सेल (कंट्रोल रूम) बनाया गया है।
जिले से लेकर शासन स्तर तक के अफसर और डिप्टी सीएम ने भी लाइव टेस्ट के जरिए रियल टाइम मानीटरिंग की, जिससे व्यवस्था को परखा जा सके। कंट्रोल रूम को हर तरह से मजबूत बनाया जा रहा है, ताकि हर परीक्षा केंद्र में पल-पल की निगरानी यहीं पर बैठकर की जा सके। कंट्रोल रूम में दोनों पालियों की परीक्षा के लिए अलग-अलग स्टाफ तैनात किया जाएगा, जबकि रात में भी ड्यूटी लगाई जाएगी।
सभी परीक्षा केंद्रों में गोपनीय प्रश्नपत्रों और कॉपियों की सुरक्षा के लिए लगे सीसीटीवी कैमरे 24 घंटे सक्रिय रहेंगे, ताकि कंट्रोल रूम से निगरानी होती रहे। कहीं से अप्रिय सूचना मिली तो तुरंत कंट्रोल रूम संबंधित परीक्षा केंद्र को कनेक्ट करके सभी सीसीटीवी कैमरों से निगरानी करेगा, ताकि सही स्थिति जानने के बाद जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रेटों तथा सचल दस्तों को भेजा जा सके। जरूरत पड़ने पर पुलिस बल भी भेजा जाएगा। इससे स्थिति के नियंत्रित करने में त्वरित कार्रवाई हो सकेगी।
जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. चंद्रशेखर मालवीय ने जिले के सभी परीक्षा केंद्रों को एक बार फिर पत्र जारी करते हुए सख्त लहजे में कहा है कि दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन किया जाए। निरीक्षण के दौरान कुछ परीक्षा केंद्रों में पाया गया कि स्ट्रांग रूम में जहां पर गोपनीय प्रश्नपत्र और उत्तर पुस्तिकाएं रखी हैं, वहां पर लगे सीसीटीवी कैमरे 24 घंटे चालू नहीं रहते हैं।
इस बारे में लगातार निर्देश दिए जाते रहे हैं कि स्ट्रांग रूम के कैमरे 24 घंटे चालू रहेंगे, लेकिन इसमें ढिलाई बरती जा रही है। डीआईओएस ने स्पष्ट रूप से कहा है कि रात में सुरक्षा व्यवस्था के लिए चौकीदार रखे जाएं, जिनकी ड्यूटी के संबंध में पंजिका भी बनाई जाए, जिससे आवागमन का स्पष्ट उल्लेख किया जा सके। इस पंजिका का केंद्र व्यवस्थापक रोजाना अवलोकन करें।

Advertisement