रेलवे व बस स्टेशनों पर यात्रियों की होगी जांच, भीड़ वाले कार्यक्रमों पर रोक

74

रायबरेली। कोरोना वायरस के खतरे को लेकर शनिवार को मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से अधिकारियों की क्लास ली। उन्होंने रेलवे और बस स्टेशनों पर आने वाले यात्रियों को जांचने के लिए अभियान चलाने के आदेश दिए हैं।

इसके अलावा होटलों और रेस्टोरेंटों में भी भीड़ को रोकने के लिए चेकिंग के निर्देश दिए। पूरे जिले में विशेषक सतर्कता बरतने के साथ ही खास नजर रखने के निर्देश दिए। सीएचसी अधीक्षकों को अपने-अपने क्षेत्रों में नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं। अस्पतालों में दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता के साथ ही रिस्पांस टीमों को सक्रिय रखा जाए।

कोरोना वायरस का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। सतर्कता को लेकर सभी स्कूल-कॉलेज 22 मार्च तक बंद कर दिए गए हैं। कोरोना के खतरे को लेकर शनिवार को मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग में डीएम शुभ्रा सक्सेना सहित अन्य अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। मुख्य सचिव ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर जल्द ही एडवाइजरी जारी की जाएगी। किसी भी स्तर पर कोई कमी नहीं होने दी जाए।

रेलवे व बस स्टेशन पर बाहर से आने वाले लोगों पर नजर रखी जाए। संदिग्ध लोगों की जांच भी की जाए। होटलों में अधिक से अधिक लोगों को इकट्ठा न होने दिया जाए। इसके लिए भी जांच कराई जाए। उन्होंने भीड़भाड़ वाले कार्यक्रमों पर रोक लगाने के निर्देश भी दिए।

शासन से निर्देश मिलने के बाद डीपीआरओ उपेंद्रराज सिंह ने सभी एडीओ व बीडीओ को पत्र जारी करके जिले की 989 ग्राम पंचायतों में बैठकें कराकर लोगों को कोरोना वायरस से जागरूक कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने प्रधानों के माध्यम से लोगों से अफवाह से बचने की अपील कराने के निर्देश दिए। साथ ही कोरोना वायरस के लक्षणों के बारे में भी लोगों को बताने के निर्देश दिए।

बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग के निदेशक के निर्देश पर जिले के सभी 2833 आंगनबाड़ी केंद्रों को 22 मार्च तक बंद रखने के आदेश दिए गए हैं। जिला कार्यक्रम अधिकारी शरद त्रिपाठी ने बताया कि सभी आंगनबाड़ी केंद्र बंद करा दिए गए हैं। साथ ही पोषाहार का वितरण पहले की तरह ही कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि बच्चों के अभिभावकों को तय दिवसों में पोषाहार का वितरण किया जाएगा। आदेश का शत-प्रतिशत पालन कराने के आदेश सभी सीडीपीओ को दिए गए हैं।

जिला अस्पताल में शनिवार को भी जुकाम-बुखार से पीड़ित कुछ लोग कोरोना वायरस की आशंका जताते हुए जांच कराने के लिए पहुंचे। डॉ. सलीम, डॉ. जेके लाल आदि चिकित्सक ने लोगों की सेहत जांची। सभी लोगों में मौसम को लेकर सर्दी-जुकाम मिला।

चिकित्सकों ने लोगों को समझाकर वापस लौटाया

एसीएमओ/ नोडल अधिकारी नागेंद्र प्रसाद ने बताया कि कोरोना वायरस से लोगों को बचाने और जागरूक करने के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। रिस्पांस टीमों को अलर्ट किया गया है। वीडियो कान्फ्रेंसिंग में मिले निर्देशों के आधार पर काम शुरू किया जाएगा। सीएचसी-पीएचसी को भी अलर्ट किया गया है।

Advertisement