शहर हो या देहात, मच्छरों की है भारी तादाद

39

सफाई और फॉगिंग के दावों को झूठा साबित कर रहे हालात

नालियों और सार्वजनिक स्थलों पर कूड़े व गंदगी के ढेर

Raebareli: बढ़ती गर्मी के साथ मच्छरों व डेंगू की फौज भी बढ़ रही है। शहर से लेकर गांव तक मच्छरों से लोग परेशान हैं। इक्का-दुक्का जगह की बात छोड़ दें तो कहीं भी मच्छररोधी दवा का छिड़काव नहीं हो रहा है। इससे न केवल मच्छरों की तादाद बढ़ रही है, बल्कि मच्छरजनित रोगों के फैलने की आशंका बनी हुई है। कहीं कागजों में तो कहीं औपचारिकता दिखाकर दायित्व से इतिश्री कर ली जा रही है।

रायबरेली नगर पालिका क्षेत्र में नगर पालिका प्रशासन की तरफ से सफाई कराई तो जा रही हैं , लेकिन कई मोहल्ले और स्थल ऐसे हैं, जहां की तस्वीरें नियमित सफाई की पोल खोल रही हैं। बड़ा घोसियाना मार्ग के बीच कई जगह नालियां कूड़े-करकट से पटी हैं।

जलनिकासी का समुचित इंतजाम नहीं है। इससे उन नालियों में डेंगू बीमारी को फैलाने वाले मच्छर पनप रहे हैं। सोनिया नगर, रफी नगर,कल्लू का पुरवा, नया पुरवा सहित दर्जनी मोहल्ले में भी कई स्थानों पर खासकर आबादी वाले क्षेत्रों में नियमित सफाई नहीं हो पा रही हैै। शाम और रात की बात कौन कहे, दिन में भी मच्छर काटने लगते हैं।

सबसे बड़ी बात तो जिले के कलेक्ट्रेट परिसर की है जहां पर बड़ी-बड़ी नाथ योगी है साथ ही जो परिसर के अंदर पार्क बने हुए हैं उनमें भी बड़ी-बड़ी घास फूस के पेड़ उगे हुए हैं जिसमें डेंगू फैलाने वाले मच्छर भारी तादाद में मौजूद हैं जबकि यह परिसर ऐसा है कि जहां पर जिले के उच्च अधिकारीयो का कार्यालय मौजूद हैं उसके बावजूद भी उनका ध्यान इस ओर नहीं जाता है हालात यह है कि वहां पर आने वाले फरियादी व कर्मचारियों को दिन में ही मच्छरों से आमना सामना करना पड़ता है ।

अनुज मौर्य रिपोर्ट

Advertisement