शोहदों से बहन की आबरू बचाना भाई को पड़ा भारी, अस्पताल में मौत

42
  • निष्क्रिय हुई डलमऊ पुलिस शिथिलता की सारी हदें पार

  • घटना को दबाने में जुटे हैं जिम्मेदार डलमऊ पुलिस के हाल बेहाल

डलमऊ (रायबरेली)। बहन की आबरू बचाना एक भाई को भारी पड़ गया शोहदों ने भाई को जमकर पीटा था जिसके बाद उसकी दुखद मौत हो गई। मामला डलमऊ कोतवाली क्षेत्र के सूरसना गांव का है। डलमऊ पुलिस की घोर लापरवाही से एक युवक को अपनी जान से हाथ धोना पड़ गया है वह भी जब वह अपनी बहन से हो रहे छेड़छाड़ का विरोध कर रहा था। बेखौफ होकर शोहदों ने उसकी पिटाई कर दी। घटना 21 फरवरी की है जब शोहदों ने देखा होते हुए युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी थी।

डलमऊ क्षेत्र में नहीं रह गया है पुलिस का भय अपराधियों के हौसले बुलंद

विगत दिनों से जिस तरह से अपराधों की श्रृंखलाबद्ध बढ़ोतरी हो रही है हाल में ही एक युवक को क्लच वायर से गला घोंट कर मार डाला गया था तो दूसरी घटना में एक युवक को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। ऐसे में समझा जा सकता है कि डलमऊ कोतवाल और सर्किल अफसर कितने विफल साबित हो रहे हैं। ऐसे हालातों में तत्काल पुलिस अधीक्षक रायबरेली को ऐसे जिम्मेदारों पर सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए जिन की लापरवाही के चलते क्राइम में लगातार इजाफा हो रहा है।

अपराध और अवैध काम जमकर फल फूल रहे हैं

डलमऊ क्षेत्र में पुलिस का भय तो रह नहीं गया है इसलिए यहां पर अवैध काम अपने चरम पर हैं चाहे वह फिर पेड़ों की कटाई हो, अवैध कब्जे हो, जा फिर तस्करी के अन्य रास्ते इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा फल- फूल रहे हैं। पुलिस गश्ती भी जैसे तैसे चल रही है सूत्र बताते हैं की ईद-गिर्द के क्षेत्रों में भय भी है तो साथ में अपराधों की लगातार बढ़ोतरी भी है। अपराधियों के बुलंद हौसलों को तोड़ने के लिए पुलिस प्रशासन पूरी तरह से विफल साबित हो रहा है।

डलमऊ सीओ और कोतवाल के पास नहीं होता कोई जवाब

हो रही वारदातों ने डलमऊ क्षेत्र को दहला कर रखा है जब पत्रकार डलमऊ सीओ और कोतवाल से उनका पक्ष जानने की कोशिश करते हैं तो उनके पास असाधारण जवाब होते हैं मसलन मामले को कैसे भी दबा दिया जाए या फिर एक कड़ी को दूसरे कड़ी से जोड़कर सवालों को निष्क्रिय किया जाए ताकि उन पर कोई सवाल खड़ा ना हो सके। ऐसे हालातों में पुलिस अधीक्षक को तत्काल संज्ञान में लेते हुए इस क्षेत्र में पुलिसिंग को दुरुस्त करना होगा ताकि जनता के बीच सुरक्षा का भाव पहुंचे।

Advertisement