“सैनिक” एक जंग ! सरहद से लेकर घर के आँगन की जमीन तक

151

इनपुट – अजय कुमार

कौशाम्बी – सुल्तानपुर कछार गांव का मूलतः रहने वाला एक सैनिक परिवार अपने आशियाने की जमीन को बचाने के जंग लापरवाह सरकारी सिस्टम से लड़ रहा है । हालात यह है कि सैनिक परिवार दबंगो के मकड़ जाल में फस पुलिसिया कार्यवाही का दंश भी झेल रहा है । पीड़ित सैनिक और परिवार ने अफसरों की चौखट-दर-चौखट इंसाफ की गुहार लगाईं, लेकिन अफसरों ने अभी तक उसकी जमीन को दबंगो से आज़ाद करा कर उसे नहीं दिला पाए है । सरहद पर डियूटी के दैरान घरेलू परेशानियों से सैनिक का मनोबल न टूटने पाए, इस बात हवाला देते हुए सैनिक के अफसर से जिला अधिकारी कौशाम्बी को पत्र लिखकर जल्द से जल्द कार्यवाही दरख्वस्त की । सैनिक के डिप्टी कमांडेंट ने पत्र में स्पष्ट किया है कि जवान देश के अति संवेदनशील जगह कश्मीर में सुरक्षा दौरान उसका मनोबल ऊंचा रहे ताकि देश की सुरक्षा पर आंच न आये ।

एसएसबी में कार्यरत है जवान

गौरतलब है कि कड़ाधाम थाना क्षेत्र के सुल्तानपुर कछार गाव में रहने वाले राम प्रताप शर्मा का बड़ा बेटा सशस्त्र सीमा बल में नौकरी करता है । मौजूदा समय में वह देश के अति संवेदनशील स्थल कश्मीर में तैनात है ।गांव में सैनिक परिवार का पुस्तैनी जमीन है । आबादी की जमीन बेशकीमती होने के कारण ग्राम प्रधान अनिल शर्मा और अन्य दबंग आबादी की जमीन को सरकारी तालाबी नंबर की जमीन बता कर कब्ज़ा करना चाह रहे है । पीड़ित सैनिक परिवार दिसंबर माह में अपनी जमीन पर मकान बनवा रहा था तभी आरोपितों ने निर्माणाधीन भवन को गिरा दिया, विरोध करने पर उल्टे स्थानीय अलीपुरजीता चौकी पुलिस से साठगांठ कर पीड़ित पर शांति भंग व् फ़ज़ी मुकद्दमे की कार्यवाही करा कर उत्पीड़न शुरू कर दिया । परिवार के लोगो ने जिले के आला अफसरों से शिकायत की। जाँच में स्थानीय लेखपाल व राजस्व के अधिकारियो ने पीड़ित की जमीन को सरकारी व् तालाबी नंबर की जमीन नहीं पाया । एसडीएम सिराथू राजेश कुमार श्रीवास्तव ने आदेश किया कि भू-भाग तालाबी नंबर नहीं है जिससे अनावश्यक किसी प्रकार हस्तक्षेप न किया जाय । इसके बाद भी गांव के दबंग सैनिक परिवार को उसकी खुद की जमीन पर कब्ज़ा नहीं करने दे रहे है । कब्ज़ा नहीं मिलने से परेशान परिवार लगातार जिला अधिकारी से लेकर प्रदेश और देश की सरकार के मंत्रियो से मदद की गुहार लगा रहे है लेकिन न सरकार और न ही सरकारी नुमाइंदे उनकी फ़रियाद सुन रहे है ।

रंजिश में हो रही पुलिसिया कार्यवाही

सैनिक के पिता राम प्रताप शर्मा के मुताबिक जमीन पर निर्माण के दौरान स्थानीय प्रधान चुनाव में वोट की रंजिस के चलते ग्रामीण दबंगो को आगे कर उनके ऊपर पुलिसिया कार्यवाही कराते है । ऐसे में वह अपने आप को उपेक्षित महसूस कर रहे है ।

सैनिक की जमीन पर भू माफियाओं की नजर

सैनिक की वर्दी पहनकर शत्रुघ्न शर्मा ने देश की सरहद की एक इंच जमीन भी दुश्मन देश के हाथ न जाने देने की कसम खाई । जिसके लिए वह अपने लहू का कतरा कतरा देने से आज भी पीछे नही है । सैनिक परिवार देश के अंदर अपने पुस्तैनी जमीन का टुकड़ा दबंगो से बचाने के लिए लापरवाह अफसरशाही के आगे घुटने टेकने को मजबूर है । सैनिक शत्रुघ्न शर्मा के मुताबिक उसने सरकार के मंत्री से लेकर संत्री तक इन्साफ की गुहार लगाईं है, लेकिन कोई भी अफसर उनकी फ़रियाद नहीं सुन रहा है । ऐसे हालात में वह खुद अपने आप को गिरा हुआ महसूस करने को मजबूर है ।

डीएम ने कहा होगी कार्यवाही

इस पूरे मामले पर जिला अधिकारी मनीष कुमार वर्मा का कहना है कि मामला उनके सज्ञान में आया है , अतिरिक्त मजिस्ट्रेट को मामले की विस्तृत जाँच के लिए निर्देशित किया गया है , जाँच रिपोर्ट आते ही जल्द से जल्द पीड़ित की जमीन पर कब्ज़ा दिलाया जायेगा , किसी भी दशा में सैनिक का मनोबल गिरने नहीं दिया जायेगा।

Advertisement