और जब फ्रांस से अपनी दुल्हन को लेने पहुँचा दूल्हा रायबरेली

712

रायबरेली

जिले में आयोजित एक शादी समारोह शहर में चर्चा का विषय बनी हुई है, हो भी क्यों ना, 2019 में जॉब के लिए फ्रांस गई रायबरेली की युवती और वहा अपना साथ मे जॉब कर रहे सिलवा मार्टिन को दिल दे बैठी, फिर क्या था प्यार परवान चढ़ा और आज रायबरेली की नीती बेदी फ्रांस के सिलवा मार्टिन की हो गई।

शादी पूरी तरह भारतीय रीति रिवाज से हुई सम्पन्न
भारतीय संस्कृति और सभ्यता से हो रही यह शादी इसलिए भी ख़ास है कि शादी में दुल्हन भले ही भारतीय हो लेकिन भारतीय संस्कृति और सभ्यता से ओतप्रोत दूल्हा फ्रांस का रहने वाला है, हिन्दू रीति रिवाज से मंगलवार को सम्पन्न हुई इस शादी में कई बात ऐसे भी सामने आई जिसमें दूल्हे को शादी के दौरान कई बातें समझनी थी तो ट्रांसलेशन दुल्हन और दूल्हे के दोस्तों ने किया, और ट्रांसलेशन के माध्यम से ही दूल्हे सिलवा मार्टिन ने विवाह के सात वचन भी लिए, शादी पूरी तरह भारतीय रीति रिजावज से हुई तो वकायदा सिलवा मार्टिन भी फ्रांस से अपनी मां सहित 1 दर्जन बारातियों के साथ शादी करने के लिए रायबरेली पहुंचे. 

नीति के लिए जिंदगी की सबसे बड़ी खुशी
इस शादी के बाद दुल्हन बनी नीति की ख्याति के तो वर्षों का ही नहीं मानों जिंदगी का ही सपना पूरा हो गया, नीति से पूछने पर बातों से ही पता चल रहा था कि वो आज जितना खुश थी शायद वह नीति के लिए जिंदगी की सबसे बड़ी खुशी थी, नीति कहती है कि आज मेरे माता पिता इस शादी की इजाजत नहीं देते तो शायद हम यह शादी नहीं करते इससे भारतीय संस्कार भी ख्याति के बातों से झलक रहे थे.

नीति के माता पिता शादी को लेकर तो खुश दिखे:
शादी हिन्दू रीति रिवाज से पूरी हुई, दूल्हे ने सात वचनों को समझा और सात फेरे भी लिए, शादी में पहुंचे आचार्यों ने शादी को पूरी तरह हिन्दू रीति रिवाज से पूरा कराया, तो दूल्हे कि पिता व माँ ने शादी की सभी रस्में पूरी करी आज हमने जब शादी को लेकर नीति की मां नीरू बेदी और पिता संजय बेदी से बात की, तो नीति के माता पिता शादी को लेकर तो खुश दिखे, लेकिन बेटी की विदाई का दर्द चेहरे से साफ झलक रहा था, हालांकि हर मां-बाप की खुशी बच्चों की खुशी में होती है.

नीति के लिए भी यह दिन किसी ख्वाब से कम नहीं:
कुल मिलाकर विदेशी दुल्हे के साथ भारतीय दुल्हन की शादी भले ही रायबरेली में चर्चा का विषय रही हो लेकिन सच्चाई यह भी है कि भारतीय संस्कारों में पली-पढ़ी ख्याति के लिए भी यह दिन किसी ख्वाब से कम नहीं था, और इधर शादी में आए मेहमानों के लिए वाकई यह शादी कुछ ज्यादा ही ख़ास दिखी. 

अनुज मौर्य एक्सक्लुसिव रिपोर्ट

Advertisement