अंतर्राष्ट्रीय वसुंधरा परिवार के 8 दिवसीय शिविर का समापन

43

चित्रकूट। संघ की विचार पद्धति पर राष्ट्र के पुनर्जागरण कार्य मे लगे अंतर्राष्ट्रीय वसुंधरा परिवार का 8 दिवसीय शिविर ‌का चित्रकूट में समापन हुआ। शिविर में देश के कई राज्यों की मातृशक्ति और छात्र-छात्राओं ने सहभागिता की।

बता दें कि सभी सामान्य एवं वंचित वर्ग की युवा पीढ़ी को आईएएस और आईपीएस जैसी प्रशानिक सेवाओं के तैयार करने‌ के साथ साथ राष्ट्र कर्तव्य के लिए जीवन समर्पण करने की प्रेरणा देना ही वसुंधरा परिवार का मुख्य लक्ष्य है। शिविर में बच्चों को लक्ष्य फतह के गुर सिखाए गए इसके बाद ऑनलाइन निःशुल्क कक्षाएं चलेंगी।

वसुंधरा परिवार के संरक्षक पूर्व गृह सचिव जगन्नाथ सिंह के नेतृत्व में आचार्य मंदिर नयागांव में चले इस शिविर में लगभग 2 सौ लोगों ने प्रतिभाग किया। दिल्ली, उड़ीसा, विहार , राजस्थान, मध्यप्रदेश, बिहार और यूपी के छात्र-छात्राओं के अलावा वसुंधरा परिवार की अखिल भारतीय कार्यकारिणी भी शिविर में मौजूद रही।

8 दिवसीय शिविर की दिनचर्या सुबह 5 बजे से रात्रि में 10 बजे तक चली। वसुन्धरा परिवार संस्थापक अध्यक्ष आशुतोष ने सत्रों में बच्चों को लक्ष्य साधने के सटीक तरीके बताए। संरक्षक सेवा निवृत्त आईएएस जगन्नाथ सिंह ने बताया कि वसुंधरा परिवार में तमाम‌‌ शिक्षक, प्रशासनिक अधिकारी एवं‌ ‌वरिष्ठ समाजसेवी शामिल हैं।

सभी अधिकारी व अनुभवी टीम देशभर में चुनिंदा बच्चों की फौज तैयार करने के मिशन में है। शिविर में पढ़ाई और जीवन जीने की कला सिखाई गई। बच्चियों और मातृशक्ति को आत्मनिर्भर बनाने के तरीके बताए गए। साथ ही तीर्थक्षेत्र के विभिन्न स्थलों का भ्रमण कराया गया।

वसुंधरा परिवार का गठन वर्ष 2005 में किया गया है। संघ परिवार की विचारधारा को आगे बढ़ाना इसका लक्ष्य है। वसुंधरा परिवार की अखिल भारतीय कार्यकारिणी बैठक नवम्बर महीने में दिल्ली में होगी।

इस शिविर में भुवनेश्वर से ममता पंडा, दिल्ली से खेमचंद्र शर्मा, डा. सत्यजीत, रींवा के पूरनमल साहू, जबलपुर के मुकुल तिवारी, प्रज्ञा द्विवेदी, उङीसा के कृष्ण कुमार गुप्ता, लखनऊ की जया सिंह, वैतुल के अनिल राठौर, लक्ष्मीकांत लखनऊ, श्रीनाथ जेना भुवनेश्वर, प्रो. लिली पंडा, शिवांगी परमार, सुधा सिंह लखनऊ, सरस्वती कर्वी समेंत मातृशक्ति, प्रशिक्षक और छात्र-छात्राओं की मौजूदगी रही।

शिविर में राष्ट्रीय स्तर‌‌के‌ अनेकों विभूतियों ने‌ प्रशिक्षण में मा्रगदर्शन‌‌ किया‌। उद्घाटन सत्र में डा०राम अवतार शर्मा (चेयरमैन‌ रामायण सर्किट ) सत्येन्द्र सिंह‌‌ आगरा, एवं दीक्षांत समारोह श्री श्री १००८ पूज्य संत राजगुरु वदरी प्रपन्नाचा्र्य‌‌जी श्री महान्त‌ -आचार्य आश्रम मार्गदर्शन‌ हुआ‌।

कार्यक्रम मे‌ अर्पित सिंह ‌-बांदा , प्रियांशु‌ चतु्र्वेदी, प्रयाग के वनवारी लाल अग्रवाल का अतुल्य योगदान रहा।
शिविर में अंतर्राष्ट्रीय संस्थापक अध्यक्ष आशुतोष ने अंतिम दिन सभी का आभार जताया।

रिपोर्ट-पुष्पराज कश्यप

Click