कोटेदार पर कार्डधारकों से अभद्रता का आरोप

28

रायबरेली। सार्वजनिक वितरण प्रणाली के ज्यौना दुकानदार पर ग्राम प्रधान सहित अन्य ग्रामीणोें ने कार्डधारकों के साथ अभद्रता करने व घटतौली करने का आरोप लगाते हुए कोटेदार को गांव के बाहर का निवासी बता जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देते हुए जांच की मांग की थी।

जिलाधिकारी के निर्देशन पर गुरूवार को मामले की जांच पूर्ति अधिकारी को करना था जहां पर गांव के ग्रामीण एकत्रित थे। परन्तु ग्राम प्रधान के गांव में न होने के कारण जांच शुक्रवार के लिए टाल दी गयी।

बताते चलें कि ग्राम सभा ज्योना के ग्राम प्रधान उमेश कुमार उर्फ कुन्नू सहित अन्य ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देते हुए ज्योना गांव के कोटेदार मंसूर अली के विरूद्ध घटतौली व कार्डधारकों के साथ अभद्रता करने का आरोप लगाया था।

साथ ही यह भी कहा गया कि कोटेदार गांव के निवासी नही है तो इन्हे कोटे की दुकान कैसे आवंटित हो गई?मामले को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव ने पूर्ति निरीक्षक अमर सिंह को जांच करने के आदेश दिये। गुरूवार को कोटे की जांच की जानकारी होने पर गांव के ग्रामीण दुकान के पास एकत्रित थे।

गांव में ग्रामीणों की एकत्रित होने की जानकारी पर पूर्ति निरीक्षक अमर सिंह गुरूवार को जांच करने नही पहुंचे। मामले में जब पूर्ति निरीक्षक अमर सिंह से बात की गयी तो उन्होने बताया कि मुख्य शिकायतकर्ता गांव के प्रधान गांव में उपस्थित नही थे जिसके कारण आज जांच नही हो सकी, शुक्रवार को जांच की जायेगी।

वहीं मामले में ग्राम प्रधान उमेश कुमार से जानकारी करने पर उन्होने बताया कि मुझे जांच की जानकारी नही थी मैं गांव से बाहर हूॅ।

रिपोर्ट – अशोक यादव एडवोकेट

Advertisement