दारोगा के ज़ुल्म के ख़िलाफ़ उठी आवाज़ें, कार्रवाई की मांग

7

रायबरेली। कोतवाली में तैनात दरोगा के कारनामें दिन ब दिन बढ़ते जा रहे हैं लोगो से गाली-गलौज करना मारना पीटना व अवैध वसूली करना दारोगा का पेशा बन गया है। बीते दो माह में एक दर्जन से अधिक मामले चर्चा में हैं। वहीं गरीब को जमकर पीटने व अवैध वसूली करने के एक मामले में पूर्व विधायक रामलाल अकेला ने पीड़ित के साथ पहुंच कर क्षेत्राधिकारी से लिखित शिकायत दिलाते हुए साथ दारोगा पर कार्यवाही की मांग की गयी है। मामले में क्षेत्राधिकारी ने पीड़ित को न्याय दिलाने का भरोसा दिया है।

बताते चलें कि गुरूवार को पूर्व विधायक रामलाल अकेला पीड़ित के साथ क्षेत्राधिकारी रामकिशोर सिंह से मिले और पूरे मामले से अवगत कराया। क्षेत्राधिकारी को पीड़ित द्वारा दिये गये शिकायती पत्र में मोन गांव निवासी रानू पुत्र लाली ने बताया कि बुधवार को अपरान्ह 3 बजे हलोर चौकी इंचार्ज अनिल यादव उसके घर आये और उसे भद्दी भद्दी गाली गलौज दे अपनी गाड़ी पर बैठा कर हलोर चौकी ले गये।

जहां पर दारोगा ने पीड़ित के हाथ पैर बांध कर उसे महिला परिजनों के सामने ही डण्डों से जमकर पीटा और चोरी झूठे मुक़दमे में फंसा कर जेल भेज देने की धमकी देकर 20 हजार रूपये की मांग की। रानू की मां ने अपने सोने के टप बेंच कर दरोगा को 5 हजार रूपये देने के बाद उसे रात में छोड़ दिया और शेष 15 हजार सुबह ने देने पर पूरे परिवार को जेल भेज देने व घर से भगा देने की धमकी दिया।

मामले की जानकारी होते ही पूर्व विधायक रामलाल अकेला पीड़ित के साथ सीओ रामकिशोर सिंह से मुलाकात कर पीड़ित के साथ न्याय किए जाने की मांग की। मामले में क्षेत्राधिकारी रामकिशोर सिंह ने पीड़ित को न्याय दिलाने का आश्वाशन दिया है। क्षेत्राधिकारी रामकिशोर सिंह ने बताया पीड़ित की शिकायत आयी है जांच करायी जा रही है उच्चाधिकारियों को भी मामले से अवगत कराया गया है।

पुलिस द्वारा प्रताड़ित किए गये पीड़ित के साथ क्षेत्राधिकारी से न्याय दिलाने के लिए पहुंचें पूर्व विधायक रामलाल अकेला ने कहा कि गरीब व असहाय के साथ ऐसा व्यवहार वह कतई बर्दाश्त नही करेंगे, जनता के साथ अमानवीय बर्ताव कर दरोगा भाजपा सरकार को बदनाम करने का काम कर रहा है। पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए हर सम्भव संघर्ष किया जायेगा।

शिवगढ़ थाने में भी आम जनता को परेशान करने के कारण पुलिस अधीक्षक द्वारा दरोगा अनिल यादव को शिवगढ थाने से हटा महराजगंज थाने पर स्थानान्तरित किया गया। लगभग दो माह में ही दरोगा अनिल यादव के कारनामें क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया है।

एक बीडीसी को थाने से गाली देकर भगाने का मामला हो या फिर क्षेत्र की एक नाबालिक लड़की के साथ हुए बलात्कार के मामले को परिजनों से बलात्कार की तहरीर बदलवा छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज करने का दबाव बनाने जैसे कई मामले क्षेत्र में चर्चा का विषय बने हुए हैं। जिसकी शिकायत पीड़ित ने पुलिस अधीक्षक तक से की है।

रिपोर्ट- अशोक यादव एडवोकेट

Advertisement