पूर्वांचल किसान यूनियन के उपाध्यक्ष राजकुमार गुप्ता का इस्तीफा

4
यूनियन नेतृत्व पर लगाया आरोप, कहा- न कोई एजेंडा न कोई नीति, सिर्फ बड़ी-बड़ी बातें


राजातालाब, वाराणसी। पूर्वांचल किसान यूनियन के कद्धावर नेता राजकुमार गुप्ता ने नेतृत्व पर सवालिया निशान खड़ा करते हुए यूनियन से इस्तीफा दे दिया।

पूर्वांचल किसान यूनियन में खलबली मची हुई है। बता दें कि अभी कुछ दिन पहले ही यूनियन के महासचिव वीरेंद्र यादव आज़मगढ़ से वाराणसी आए थे।

उन्होंने यूनियन के पदाधिकारियों व संगठन के स्वयंसेवकों संग बैठक की। उन्हें किसानों, मज़दूरों के हक हकूक मान सम्मान और अधिकार की लड़ाई को मज़बूत करने के टिप्स दिए। उसी दौरान यूनियन के केंद्रीय नेतृत्व की ओर से एक फैसला आया जिसके तहत महासचिव विरेंद्र यादव ने एक व्यक्ति को मनमाने तरीक़े से उपाध्यक्ष बना दिया दिया।

नेतृत्व के इस निर्णय का असर तो पड़ना ही था, लिहाजा कुछ दिन बाद यूनियन के जुझारू और कर्मठ नेता केन्द्रीय समिति के मुख्य उपाध्यक्ष राजकुमार गुप्ता ने यूनियन से इस्तीफ़ा दे दिया।

इस्तीफे के बाद राजकुमार गुप्ता ने बताया कि जिस उम्मीद से हमने पूर्वांचल किसान यूनियन का दामन थामा था, उस संघर्ष में पूर्वांचल किसान यूनियन पूरी तरह से फेल रही।

उन्होने आरोप लगाया कि यूनियन को जमीनी तौर पर अब जनता पसंद नहीं कर पा रही है। यूनियन के पूर्व उपाध्यक्ष ने कहा कि यूनियन का नौजवानो, मजदूरों, किसानो एवं बुनकरों को लेकर स्पष्ट एजेंडा ना होना, हम जैसे युवा नेताओं की प्रतिभा पर कलंक का काम कर रही थी।

तो ऐसे वातावरण में वह यूनियन के उपाध्यक्ष के रूप में कार्य नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी पहले से ही यूनियन में उपेक्षा हो रही थी सोमवार को आखिरकार उन्होंने पद से इस्तीफा देकर अपने को मुक्त कर लिया है।

उन्होने कहा कि हमने पूर्वांचल किसान यूनियन की आजवीन सदस्‍यता से त्याग पत्र देते हुए यह संकल्प लिया है कि अब हम जीवन पर्यंत यूनियन के लिए ना तो प्रचार करेंगे और ना ही कभी कोई कार्य करेंगे।

राजकुमार गुप्ता ये स्‍पष्‍ट कर दिया कि यूनियन छोड़ने के बाद वे किसी राजनैतिक दल व संगठन में शामिल नही होंगे। हालांकि सूत्रों की मानें तो राजकुमार गुप्ता प्रशांत किशोर और अमिताभ ठाकुर के संगठन के साथ जा सकते हैं। फिलहाल राजकुमार गुप्ता ने इसे लेकर अपने पत्‍ते नही खोले हैं।

राजकुमार गुप्ता यूनियन के अध्यक्ष योगीराज सिंह पटेल महासचिव विरेंद्र यादव को सोमवार शाम को ई-मेल द्वारा इस्तीफा पत्र भेजकर शोसल मीडिया पर इस्तीफ़ा की घोषणा करते हुए कहा कि लोकतंत्र स्थापित करने के लिए वह कार्य करते रहेंगे।

-राजकुमार गुप्ता

Advertisement