Mahendra Tripathi: पीएम मोदी के अयोध्या दौरे पर फिर छाए पत्रकार महेंद्र त्रिपाठी

57
mahendra tripathi-journalist-ram mandir-pm modi

अयोध्या। चार दशक से पत्रकारिता का लोहा मनवा रहे महेंद्र त्रिपाठी (Mahendra Tripathi) एक बार फिर सुर्खियों में हैं। पीएम मोदी तो फिर लोगों की जुबान पर पीएम मोदी की वो बाइट दिल में उतर आई, जिसमें नरेंद्र मोदी ने राममंदिर निर्माण का संकल्प लिया था। बता दें कि 31 वर्ष पहले राम लला के दरबार मे प्रधानमंत्री मोदी ने राम मंदिर निर्माण का अयोध्या में आकर संकल्प लिया था। पत्रकार महेंद्र फिर से सब जगह छा गए।

Mahendra Tripathi: अयोध्या की पत्रकारिता की शान महेंद्र त्रिपाठी आजकल मीडिया सुर्खियों में हैं। जिन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक तस्वीर 1991 में रामलला के दरबार मे खींची थी, जो सोशल मीडिया में तथा देश-दुनिया के नामी गिरामी न्यूज चैनलों पर 5 अगस्त 2020 को, जब राम मंदिर की आधारशिला रखी थी, दिखाई जा चुकी है। इसके लिए उनकी वाहवाही भी हुई थी। अब एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का दूसरा अयोध्या दौरा भव्य दीपोत्सव पर हुआ। जहाँ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 18 लाख दीपक जलाकर गिनीज वर्ल्ड बुक में दर्ज कराकर रिकॉर्ड तोड़ा है।

Mahendra Tripathi: बता दें कि यह बहुत कम लोग जानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेद मोदी पहली बार अयोध्या जब आये थे, तो उन्होंने वरिष्ठ पत्रकार महेंद्र त्रिपाठी के सामने रामलला के दरबार में राम मंदिर के निर्माण का संकल्प लिए था। जब महेंद्र त्रिपाठी विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के प्रेस छायाकार हुआ करते थे। और राम जन्मभूमि में ही श्रीराम जन्मभूमि स्टूडियो भी चलाते थे। तब नरेंद्र मोदी गुजरात प्रांत के बीजेपी संगठन के नेता थे। तब वे न गुजरात के मुख्यमंत्री थे और न प्रधानमंत्री। तब वे लालकृष्ण आडवाणी के साथ एकता यात्रा लेकर निकले थे।

Mahendra Tripathi: और उनके साथ तत्कालीन बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ मुरली मनोहर जोशी रामलला के दरबार ने आये हुए थे। तब महेंद्र त्रिपाठी ने डॉ मुरली मनोहर जोशी के साथ उनकी एक तस्वीर खींची थी। और एक सवाल उस वक्त नरेंद्र मोदी से किया था कि आप दोबारा अयोध्या कब आएंगे।

तब उन्होंने महेंद्र त्रिपाठी से कहा था कि जब राम मंदिर बनेगा, तब आऊंगा। उनका वह संकल्प तब पूरा हुआ, जब वे 5 अगस्त 2020 को अयोध्या आये और राम मंदिर की आधारशिला रखी।

महेंद्र त्रिपाठी की उस तस्वीर से वो हुआ जो उन्होंने 31 वर्ष पूर्व नरेंद्र मोदी की खींची थी। अब हम आप को बताते हैं महेंद्र त्रिपाठी कौन है?

महेंद्र त्रिपाठी अयोध्या के रायगंज मुहल्ले के रहने वाले हैं। उनके पिता पुलिस इंस्पेक्टर थे। और वे तीन भाई हैं। बड़े भाई हरि हरेंद्र त्रिपाठी और छोटे भाई पूणेंद्र त्रिपाठी। बड़े भाई रेलवे के पायलट थे, जो रिटायर हो चुके हैं और छोटे भाई कोचिंग सेंटर चलाते हैं। और महेंद्र त्रिपाठी पत्रकारिता के 40 वर्ष पूरा कर चुके हैं। उनकी पत्रकारिता देश-दुनिया में मिसाल है।

महेंद्र उन पत्रकारों के लिए वे एक प्रेरणा हैं, जो पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रहे हैं। महेंद्र त्रिपाठी 60 कि उम्र पार कर चुके हैं। जब वे राम जन्मभूमि स्टूडियो चलाते थे, तो उन्हें जिला प्रशासन की तरफ से इकलौता पास मिलता था। और वे अपने कैमरे में रामजन्मभूमि परिसर में घट रही घटनाओं की तस्वीरें खींचते थे। इसके साथ ही व शासन-प्रशासन व विश्व हिंदू परिषद के लिए भी फोटोग्राफी करते थे।

Mahendra Tripathi: गौर करें तो जब-जब ख़ुदाई होती थी। उसमें निकलने वाली मूर्तियां व मन्दिर के अवशेषों को भी वो अपने कैमरे में कैद करते थे। की जिसे विहिप के नेता चम्पत राय ने उनसे तस्वीरें लेकर मन्दिर-मस्जिद के चले मुकदमे में उनकी तस्वीरों को सबूत के तौर पर दाखिल किया। साथ ही उन्होंने 1990 के अयोध्या के गोलीकांड की तस्वीरों को खींचा। जो उनके नाम से देश-दुनिया में विहिप व बीजेपी ने प्रदर्शनी लगाई। इससे बीजेपी मजबूत हुई। अटल बिहारी वाजपेयी देश के प्रधानमंत्री बने। महेंद्र त्रिपाठी ने अटल जी की कई सभाओं को भी अपने कैमरे कैद किया था।

Mahendra Tripathi: वर्ष 1992 में विहिप के तत्कालीन अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल ने उन्हें पत्रकारिता में उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित भी किया। सीबीआई ने 6 दिसम्बर 1992 की घटना ने उन्हें अपना चश्मदीद गवाह भी बनाया। जिससे रायबरेली कोर्ट ने भड़काऊ मुकदमे में सरकार बनाम लालकृष्ण आडवाणी आदि के खिलाफ उन्हें गवाह बनाया। राम-जन्मभूमि का खजाना लूटने के मुकदमे ने सीबीआई कोर्ट लखनऊ में चले। मुकदमे में सरकार बनाम पवन पांडेय आदि के खिलाफ गवाह बनाया।

Mahendra Tripathi: इस मुकदमे में अकबरपुर के तत्कालीन शिवसेना के विधायक पवन पांडेय व गोंडा के चर्चित सांसद बृजभूषण शरण सिंह आदि नेताओं के खिलाफ सीबीआई ने उन्हें अपना गवाह बनाया था। जिसमें वे कोर्ट में होस्टाइल हो गए। जिस वजह से सभी रामभक्त आरोपी बाइज्जत बरी हो गए।

जिसमें लालकृष्ण आडवाणी, डॉ मुरली मनोहर जोशी, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, साध्वी ऋतम्भरा, विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल, महंत नृत्य गोपाल दास महराज, वर्तमान श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्र्स्ट के अध्यक्ष व महामन्त्री चम्पत राय व पूर्व सांसद डॉ राम विलास वेदान्ती, सांसद बृजभूषण शरण सिंह, पूर्व विधायक पवन पांडेय आदि शामिल हैं।

Mahendra Tripathi: इस वजह से महेंद्र त्रिपाठी की राम मंदिर आंदोलन में अहम भूमिका रही है। इसलिए सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी श्री त्रिपाठी को मानते हैं। महंत नृत्य गोपाल दास महराज के वर्ष 2027 के जन्मोत्सव में प्रेस क्लब अयोध्या के पत्रकारों की तरफ से मांग-पत्र दिया था कि अयोध्या आने वाले पत्रकारों के रुकने-ठहरने के लिए मीडिया सेंटर के निर्माण की मांग की थी। इस मांग को तत्काल स्वीकार करते हुवे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी वातानुकूलित अंतरराष्ट्रीय मीडिया सेंटर का निर्माण एक करोड़ की लागत से तैयार करवा दिया और 1 करोड़ की लागत से सड़क निर्माण भी कराया है।

आज महेन्द्र त्रिपाठी प्रेस क्लब अयोध्या के संस्थापक अध्यक्ष हैं। और कई न्यूज चैनलों के ब्यूरो चीफ भी हैं। उनकी पत्रकारिता से अयोध्या का गौरव बढ़ा है। और पत्रकारिता में उत्कृष्ट कार्य के लिए अयोध्या विधायक वेद प्रकाश गुप्ता, सांसद लल्लू सिंह, मेयर ऋषिकेश उपाध्याय, उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक के द्वारा सम्मानित भी हो चुके हैं। 

  • मनोज कुमार तिवारी
Click