गुरु कृपा इंटरप्राइजेज और भ्रष्टाचार का खेल

8

प्रतापगढ़। गुरु कृपा इंटरप्राइजेज आखिरकार जिम्मेदार अधिकारियों ने बड़ी चतुराई से करवाया सरेंडर। इसका संचालन करते थे बहुचर्चित रोजगार सेवक लाल बहादुर पाल।

इसी फर्म पर जिम्मेदार अधिकारी ग्राम विकास अधिकारी ग्राम प्रधान की मिलीभगत से लगाया गया था सरकारी धन का लाखों का चूना। वहीं किया गया था इस फर्म पर सबसे अधिक पेमेंट। मान्धाता ब्लॉक सहित अन्य ब्लाकों में भी हुआ था भुक्तान। जांच की आंच में कही झूलस न जाये जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारी एवं लाल बहादुर पाल रोजगार सेवक।

लिलौली गांव में इस पते पर फर्म का कोई वास्ता सरोकार धरातल पर नहीं दिखाई पड़ रहा था। गांव वालों ने इसका बीडिओ बयान भी मीडिया को दिया था।और लिखित रूप से जिलाधिकारी प्रतापगढ़ से शिकायत किया है जिसकी जांच प्रचलित है।

तो वहीं गुरुकृपा एंटरप्राइजेज का संचालन बहुचर्चित रोजगार सेवक लाल बहादुर पाल के द्वारा किया जाता था और उनका जलवा मांधाता ब्लॉक पर कायम था जिम्मेदार अधिकारियों ने आंख मूंद कर गुरुकृपा इंटरप्राइजेज पर किया था भुगतान भ्रष्टाचार कमीशन बाजी के आगे सारे नियम कानून हो गए थे फेल जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारी ग्राम विकास अधिकारी प्रधानों की मिली भगत से होता रहा मांधाता ब्लॉक में बड़ा खेल।

लाल बहादुर पाल की हनक के आगे नतमस्तक हो गए थे अधिकारी कर्मचारी। इतना ही नहीं सूत्र बताते हैं कि लाल बहादुर पाल का इतना जलवा कायम है जो चाहते हैं मांधाता ब्लॉक में वही अधिकारी कर्मचारी प्रधान करने को है मजबूर।

लाल बहादुर पाल ऐसे रोजगार सेवक हैं कई गांवों में करते हैं रोजगार सेवक का काम और कमाते हैं महीने में मोटी रकम तो वहीं अधिकारीयों कर्मचारियों को भी कमवाते हैं मोटी रकम।

लगातार मीडिया में चल रही ख़बरों से भ्रष्टाचारियों में मचा हड़कंप लाल बहादुर पाल ने बदल दिया अपना नया पैतरा दूसरी फर्म का आनन फानन में रजिस्ट्रेशन करवा कर कर रहे हैं सरकारी धन का गोलमाल।

सूत्र बताते हैं कि लाल बहादुर पाल के आगे नतमस्तक है अधिकारी कर्मचारी प्रधान। भ्रष्टाचार के आगे नतमस्तक हुआ मान्धाता ब्लाक में नियम कायदा और कानून।

-अवनीश कुमार मिश्रा, प्रतापगढ़

Advertisement