महिला सहायता समूह में हर घर तिरंगा मुहिम से महिलाओं को मिल रहा रोजगार

285

हर घर तिरंगा से आजीविका बन गई है जो पैसे मिलते उससे चलता है घर

रायबरेली –हर घर तिरंगा की घोषणा ने कई गरीबो की आजीविका बन गई है।झंडा बनाने के लिए ब्लाकों में सक्रिय स्वयं सहायता समूह भी जुट गए।आज इसी कड़ी में राही विकासखंड के दो महिला सहायता समूह की महिलाओं से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हम लोग हर घर तिरंगा लगाने के लिए झंडा बनाने का काम कर रहे है।हमे आर्डर मिलता है तो हम प्रोडक्ट का निर्माण करते है।हमारे द्वारा झंडे बनाकर सप्लाई की जाती है जिससे मिलने वाला पैसे से हमारा घर परिवार चलता है

आप इन तस्वीरों में देख सकते कि स्वयं सहायता समूह की महिलाएं राष्ट्रीय ध्वज बना रही है।इनको ब्लाक प्रोजेक्ट मैनेजर के द्वारा दिशा निर्देश भी दिए जा रहे है।समूह के साथ मौजूद मैनेजर सतीश ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के लिए हर घर तिरंगा लगाए जाने की योजना है।इसी के चलते हमे झंडा बनाने का आर्डर मिला है।इनको बनाकर हम ग्रामसभाओं व जिला पंचायत में सप्लाई करते है।प्रत्येक झंडे पर बनाने वाली को दो रुपये मिलते है अब तक इनके द्वारा 15 हजार झंडे बनाये जा चुके है।अभी ऑर्डर मिल रहे है।

अनुज मौर्य रिपोर्ट

Advertisement