श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान महोत्सव

17

प्रतापगढ़। विकास खंड मांधाता के भगवानपुर (छितपालगढ़) के संजय तिवारी के घर श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान महोत्सव का संगीतमयी आयोजन चल रहा है। जिसके मुख्य यजमान (श्रोता) देवी प्रसाद तिवारी पत्नी श्रीमति गायत्री देवी श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान महोत्सव संगीतमय का रसपान कर रही है। और भक्ति की धारा प्रवाहित हो रही है।

जिसमें व्यासपीठ कथावाचक प्रयागराज से आए संत श्री काशी नरेश जी महाराज अपने मुखारविंद से कथा के सातवें दिन भक्त लोगों को श्रवण करा रहे हैं जिसमें मुख्य विषय भक्ति योग्य है और श्रीकृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं साक्षात भगवान इस संसार से उद्धार करने वाले प्रभु के चरित्र का उनकी लीलाओं का बड़े ही रोचक रूप में संगीतमय भागवत कथा का ज्ञान महोत्सव पिछले 6 अक्टूबर से चल रहा है जिसका समापन महाप्रसाद भंडारा 13 अक्टूबर को होगा।

कथा के अंतर्गत व्यासपीठ महाराज जी ने श्रीमद् भागवत कथा की महिमा को निरूपित करते हुए भक्तों को बताया कि अगर इस संसार से मुक्ति पाना एवं ब्रह्म की प्राप्ति करना है तो श्रीमद् भागवत कथा ही ऐसी कथा है जो आपको इस संसार के माया जाल से सदैव के लिए मुक्ति दिलाकर भगवान श्री कृष्ण के चरणों में स्थान देती है।

इस तरह से भागवत कथा का श्रवण कराते हुए व्यासपीठ ने सभी भक्तों से श्रीमद् भागवत कथा का उद्देश्य बताते हुए कहा कि अगर जहां भी भगवान श्रीकृष्ण की बांगमई मूर्ति श्रीमद् भागवत कथा विराजित हो वहां भक्तों को संपूर्ण रूप से समर्पित होकर कथा को श्रवण करना चाहिए।

भागवत कथा ही इस माया रुपी संसार से एवं सभी पापों से मुक्ति दिलाती है।श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान महोत्सव श्री वैष्णवाश्रम दारागंज प्रयागराज से आए महंत 108 स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य महाराज जी के देखरेख में चल रहा है।

इस दौरान प्रयागराज मंडल ब्राह्मण महासभा की जिलाउपाध्यक्ष क्षमा दुबे, अनिता तिवारी,सरिता तिवारी, विशंभर नाथ तिवारी,राजेश तिवारी,राजन तिवारी,रेनू तिवारी दिनेश तिवारी,गोपाल तिवारी,विनय मिश्रा,विपिन प्रकाश मिश्रा,पंकज तिवारी,नेहा तिवारी आदि भक्तगण श्रीमद् भागवत कथा का रसपान किया।

रिपोर्ट- अवनीश कुमार मिश्रा

Advertisement