गोशाला में फैली अव्यवस्था के चलते गोवंशों के मरने का सिलसिला जारी

73

महराजगंज रायबरेली
क्षेत्र के बखतखेर मजरे मोन स्थित गौशाला में फैली अव्यवस्था के चलते चौथे दिन भी गौवंशों के मरने का सिलसिला जारी है। गौवंशों की मौत के मामले में प्रशासनिक अमला पूरी तरह से सुस्त चाल चल रहा है। हलाकि उच्चाधिकारियों के निर्देश के बाद स्थानीय प्रशासन लगातार प्रयासरत है। चौथे दिन बीडीओ व पशु चिकित्सक के अथक प्रयासों से गौशाला में चारा भूसा का इंतजाम हुआ और साफ सफाई भी जोरो पर है। परन्तु अभी भी गौशाला पहुंचा चारा गौवंशों के लिए पर्याप्त नही है।
बताते चलें कि गत शनिवार को गौशाला में हो रही गौवंशो की मौत की जानकारी होने पर स्थानीय मीडिया द्वारा मामले को उजागर करने के बाद प्रशासनिक अमला हरकत में आया, परन्तु मौके पर पहुंचे पशु चिकित्सक व खण्ड विकास अधिकारी द्वारा उच्चाधिकारियों को गुमराह करते हुए एक दो मौते होने की जानकारी दी गयी। परन्तु मौतों का सिलसिला शुरू हो गया और रविवार को 2 गौवंशों की मौत , सोमवार को 8 गौवशों की मौत व मंगलवार को भी 3 गौवंशो की मौत हो गयी। तो वहीं पशु चिकित्सक सुरेश चन्द्रा द्वारा मंगलवार को कोई भी मौत होने से इनकार किया गया। परन्तु वहां पर कार्य कर रहे एक श्रमिक ने मंगलवार को भी 3 गौवंशों की मौत होने की पुष्टि की है। यही नही श्रमिक ने बताया कि मरे हुए गौवंशो को दफनवाने की बजाय गौशाला के पीछे ही एक पानी भरे गढ्ढे में डलवा कर उसके ऊपर घास फूस (पिंजी) डालकर छिपाने का प्रयास किया जा रहा है। इन चार दिनों में गौवंशो की मौत का आंकड़ा 21 हो गया। वहीं मामले में जब खण्ड विकास अधिकारी शकील अहमद से बात की गयी तो उन्होने बताया कि कीचड़ की समस्या को दूर करने के लिए मिट्टी व राबिश डलवायी जा रही है। मंगलवार को लगभग 50 कुन्तल भूसा गौशाला पहुंचाया गया है।

तीन अधिकारियों की जांच कमेटी को जांच के निर्देश।


सुर्ख़ियों में चल रही गौशाला व लगातार गौवंशो की मौत के मामले में खास बात यह रही कि इन चार दिनों में जिले के किसी उच्चाधिकारी का आगमन गौशाला तक नही हुआ और न ही गौशाला में हो रही मौते के लिए अभी तक किसी अधिकारी कर्मचारी पर किसी प्रकार की कार्यवाही की गयी है। वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मुख्य विकास अधिकारी प्रभाष कुमार ने एसडीएम महराजगंज, बीडीओ महराजगंज व सीवीओ रायबरेली को मंगलवार की शाम तक गौशाला की जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश जारी किए हैं।

एसडीएम ने गौशाला कर्मचारियों पर निकाली भड़ास


उच्चाधिकारियों के निर्देश पर मंगलवार को एक पिकअप में भूसा लेकर पहुंचे एसडीएम आपे से बाहर नजर आए। उन्होंने पंचायत मंत्री व ग्राम प्रधान पर जमकर भड़ास निकाली। यही नहीं गौशाला में काम कर रहे श्रमिकों को भी सूचनाएं बाहर करने का उलाहना देते हुए श्रमिकों को फटकार लगाई तथा बीडीओ को पुराने श्रमिकों को बाहर निकाल कर नये श्रमिकों को गौशाला मे नियुक्त करने के निर्देश दिए।अब साहब को कौन बताए कि मोन गांव का प्रकरण साहब सहित स्थानीय व जिला प्रशासन को भी होने के बावजूद समय से गौशाला प्रकरण को गंभीरता से नहीं लिया गया, नहीं तो यह नौबत ही ना आती।

एडवोकेट अशोक यादव रिपोर्ट

Advertisement